देश

अब इस ऐप से बैंकों की ऑनलाइन शिकायत कर सकेंगे उपभोक्ता, जानिए पूरा मामला

Image result for ऐप से बैंकों की ऑनलाइन शिकायत
मुंबई । केंद्रीय बैंक की ओऱ से शिकायत प्रबंधन प्रणाली यानी कंप्लेंट मैनेजमेंट सिस्टम (सीएमएस) की शुरुआत की गई है। केंद्रीय बैंक के पास विभिन्न बैंकों की शिकायतें आती हैं। बैंक ग्राहकों की शिकायतों का समाधान निर्धारित समय में करते हुए कस्टमर एक्सपीरियंस को बेहतर बनाने के लिए आरबीआई ने सीएमएस प्रणाली को शुरू किया है। सीएमएस प्रणाली को आसानी से मोबाइल के साथ ही कम्प्यूटर या लैपटॉप पर एक्सेस किया जा सकता है।
वर्तमान में बैंकों से संबंधित किसी भी तरह की शिकायत के लिए तीन बैंकिंग ओम्बुड्समैन (लोकपाल) की व्यवस्था उपलब्ध है। इसके अलावा कंप्लेंट सिस्टम भी पूरी तरह ऑनलाइन नहीं हो पाई है। सीएमएस सिस्टम को पूरी तरह से ऑनलाइन कर दिया गया है। इस सिस्टम में कंप्लेन करने के बाद उसकी ट्रैकिंग की भी सुविधा होगी। आरबीआई के गवर्नर  शक्तिकांत दास ने यह भी कहा कि सीएमएस पर मौजूद डाटा का इस्तेमाल बैंकों व वित्तीय सेवा प्रोवाइडर्स द्वारा शिकायतों के जल्द निपटारे और शिकायत निवारण प्रणाली मजबूत बनाने में किए जाने की उम्मीद है।
इससे बैंकिंग प्रणाली को पारदर्शी बनाने में भी मदद मिलेगी।   गौरतलब है कि बैंक खाताधारकों को बैंकों की कार्यप्रणाली को लेकर अपनी शिकायतें दर्ज कराने में भारी परेशानी का सामना करना पड़ता है। अधिकांश खाताधारकों को जानकारी का अभाव होता है, जिसकी वजह से बैंकों के खिलाफ शिकायत नहीं कर पाते। इस संदर्भ में रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के पास भी शिकायतें भेजी जाती हैं। इस पर संज्ञान लेते हुए आरबीआई ने ग्राहकों की परेशानी को दूर करने के लिए ऑनलाइन सिस्‍टम तैयार किया है। इस सिस्‍टम के तहत ग्राहक मोबाइल ऐप के जरिए आरबीआई से बैंकों की शिकायत कर सकेंगे। आरबीआई की वेबसाइट पर शिकायत प्रबंधन प्रणाली यानी कंप्लेंट मैनेजमेंट सिस्टम (सीएमएस) की मदद से शिकायतों का समाधान किया जा सकेगा और कस्टमर एक्सपीरियंस को भी बेहतर बनाया जा सकेगा।
सीएमएस ऑनलाइन सिस्टम पर बैंक ग्राहक किसी भी कॉमर्शियल बैंक, शहरी या ग्रामीण सहकारी बैंकों और गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों यानी एनबीएफसी के खिलाफ ऑनलाइन शिकायत दर्ज करा सकते हैं। इस सिस्टम पर दर्ज कराई जाने वाली शिकायतों को उपयुक्त लोकपाल ऑफिस अथवा रिजर्व बैंक के क्षेत्रीय ऑफिस को भेज दिया जाएगा।
इसके साथ ही रिजर्व बैंक की ओर से जल्द ही एक डेडीकेटेड इंटरेक्टिव वॉइस रिस्पॉन्स (आईवीआर)​ सिस्टम भी लांच किया जाएगा। इस प्रणाली के शुरू होते ही शिकायतों के स्टेटस को आसानी से ट्रैक किया जा सकेगा। इस शिकायत प्रणाली को लॉन्‍च करते हुए आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि शिकायतों के जल्द और प्रभावी निपटारे के जरिए बैंकों व अन्य वित्तीय सेवा प्रोवाइडर्स में ग्राहकों का विश्वास कायम रखना जरूरी है। इस ऐप के जरिए ग्राहक प्रभावी तरीके से खुद को धोखे, जालसाजी या फ्रॉड आदि से बचा सकते हैं।
Back to top button