क्राइम

जिसके नाम की हाथों में लगी थी मेंहदी, उसी के खून से लाल कर ली नई दुल्हन

कुछ खबरें ऐसी होती हैं, जिन पर भरोसा करना नामुमकिन सरीखा होता है. ज्यादातर ऐसी खबरें रिश्तों को शर्मसार करने वाली होती हैं, जिनके बारे में जानकर सबका सिर शर्म से झुक जाता है. झारखंड के हजारीबाग से आई ये खबर भी ऐसी ही है. दो माह पूर्व गाजे बाजे के साथ ब्याह कर आई कंचन ने अपने प्रेमी के हवस में ससुराल का चिराग बुझा दिया. अनिल उर्फ विकास पिता सुभाष प्रसाद घर का एकलौता बेटा था. पुलिस जांच के बाद घर की बहू ही हत्यारिन निकली.

अप्रैल के अंतिम माह में सदर प्रखंड के अमनारी में गिद्दी चुंबा से ब्याह कर आई कंचन के हाथों में लगी मेहंदी का रंग अभी उतरा भी नहीं था कि उसने अपने ही पति के खून से हाथ लाल कर लिए. प्रेम में अंधी हो चुकी नवविवाहिता ने शादी के 50 वें दिन ही अपने पति की हत्या प्रेमी शिवानंद के हाथों करा दी.

हत्या के दिन प्रेमी उसके घर आया था, परिजनों के साथ-साथ पति ने भी अपना संबंधी मान खूब सेवा सत्कार की. उसके पति को शाम में फोन कर हजारीबाग बुलाया और साथ मिलकर दारु पी, जब मृतक नशा में आ गया तो खंजर से उसका गला रेत दिया.

पुलिस ने बताया कि तीन साल पूर्व हत्यारोपी शिवानंद व प्रेमिका कंचन देवी बड़कागांव में एक यज्ञ के दौरान मिले और उनका प्रेम परवान चढ़ गया. कंचन हजारीबाग में रहकर नौकरी कर रही थी. उसने अपने प्रेमी को भी अपने साथ दुकान में काम पर रखवा लिया और दोनों में संबंध भी स्थापित हो चुके थे. दोनो में नजदीकियां बढ़ती चली गई और जीने मरने की कसमें खाने लगे, इस बीच उसकी शादी तय हो गई.

शादी के बाद भी प्रेमी से कंचन बात करती रही. 30 मई को उसका प्रेमी घर पर आया . उसने अपने पति और अन्य परिजनों से मुलाकात कराई. इस दौरान प्रेमी ने उसके साथ भाग चलने की बात कही. कंचन ने कहा कि पति के रहते ये संभव नहीं है, इसलिए पहले इसे हटाना होगा. उसी दिन हत्या की योजना बनी और तय हुआ कि विकास उर्फ अनिल को शराब पिलाने के दौरान उसकी जान ले ली जाए.

24 जून को घटना के दिन भी कंचन के फोन पर प्रेमी अमनारी स्थित उसके घर आया. दिन के एक बजे वह अमनारी से चला गया. रात करीब सात बजे उसने विकास को फोन कर हजारीबाग बुलाया. एनएच 33 बाईपास स्थित मनैयाटाड़ के समीप उसे बियर पिला दी. अनिल जब नशे में झूमने लगा तो उसने पेशाब करने के बहाने कटारी निकाली और गले को रेत दिया.

 

Back to top button