धर्म

पैरों में सोना पहनना क्यों है मना, हैरान कर देगी पीछे की वजह

हिंदू धर्म एक ऐसा धर्म है जिसमें आज हर शुभ काम हो या फिर कोई खास मौका या फिर खाने का ढंग की क्यों न हो सभी में रिवाज होता है. लेकिन आप जानते है कि इन सभी कामों से हमारे शरीर को कितना फायदा मिलता है. साथ ही इससे हमारे दिमाग में भी अधिक प्रभाव पड़ता है. हिंदू धर्म में एक चीज सबसे अलग है वो है किसी महिला का सोलह श्रृंगार। जो पूरी दुनिया में भी फेमस है। इस सोलह श्रृंगार में माथे की बिंदी से लेकर पांव में पहनी जाने वाली बिछिया तक होता है। हर एक चीज का अपना एक महत्व है। परंपराओं की दृष्टि से तो इनके महत्व रोचक हैं।

क्यों होती हैं चांदी की पायल

क्या आपने कभी गौर किया है कि हर आभूषण को हम सोने का बनवा लेते हैं चाहें कान का झूमका हो, हाथों के कंगन या फिर गले का हार. मगर कभी भी हम सोने की पायल या बिछिया सोने की नहीं करवाते.  वो हमेशा चांदी की ही होती हैं. इसके पीछे वैज्ञानिक और धार्मिक दोनों ही कारण होते हैं. कुछ लोग इसे अंधविश्वास बताते हैं मगर आज हम आपको हर तर्क के साथ इसका जवाब देंगे.

धार्मिक कारण

धार्मिक कारण के रुप में माना जाता है कि सोना लक्ष्मी का स्वरुप होता है. जिसके कारण भगवान विष्णु को सबसे ज्यादा पसंद है सोना. इसी कारण इसे नीचले हिस्से में नहीं पहना जाता है. इससे मां लक्ष्मी का अपमान होता है और भगवान विष्णु नाराज होते हैं. कहा भी जाता है कि सोने का पैरों से लगाना भी अशुभ होता है.

वैज्ञानिक कारण

अब आपको वैज्ञानिक कारण बताते हैं. इसमें माना जाता है कि सोने के बने आभूषणों की तासीर गर्म और चांदी की तासीर शीतल होती है। जो कि शरीर का तापमान बैलेंस बनाएं रखती है। इसी कारण आयुर्वेद के अनुसार माना जाता है कि मनुष्य का सिर ठंडा और पैर गर्म रहना चाहिए। यही वजह है कि सिर पर सोना और पैरों में चांदी के आभूषण ही धारण करने चाहिए। इससे सिर से उत्पन्न ऊर्जा पैरों में और चांदी से उत्पन्न ठंडक सिर में जाएगी। इससे सिर ठंडा व पैर गर्म रहेंगे और हमारा शरीर बैलेंस में रहेगा.

स्वास्थ्य लाभ

चांदी की पायल या बिछिया पैरों में पहनने से स्वास्थ्य लाभ भी होता हैं. चांदी की पायल पहनने से पीठ, एड़ी, घुटनों के दर्द और हिस्टीरिया रोगों से राहत मिलती है. सिर और पांव दोनों में सोने के आभूषण पहनने से मस्तिष्क और पैर दोनों में समान गर्म ऊर्जा प्रवाहित होगी, जिससे इंसान रोगग्रस्त हो सकता है.

पायल, चांदी की होनी चाहिए क्योंकि ये हमेशा पैरों से रगड़ाती रहती है जो स्त्रियों की हड्डियों के लिए काफी फ़ायदेमंद है। इससे उनके पैरों की हड्डी को मज़बूती मिलती है। इसलिए पैरों में हमेशा चांदी के पायल पहननी चाहिए इससे आपको ही लाभ मिलेगा.

यानि चांदी की पायल और बिछिए हमारे लिए हर तरीके से फायदेमंद हैं.

Back to top button