उत्तर प्रदेश

अगर डॉक्टर कर देते गर्भवती का इलाज, तो आज जिन्दा होती तीनो संतान

मीरजापुर । सोनभद्र से वाराणसी जा रही गर्भवती महिला ने मंगलवार की पूर्वाह्न अहरौरा थाना क्षेत्र अंतर्गत हनुमान घाटी के समीप एम्बुलेंस में ही तीन बच्चों को जन्म दिया, लेकिन अस्पताल पहुंचने पर उपचार के दौरान तीनों बच्चों ने दम तोड़ दिया।

सोनभद्र जनपद के ओबरा थाना क्षेत्र अंतर्गत बिल्लीबाड़ी निवासी मनोज की पत्नी फूलकुमारी को मंगलवार की सुबह प्रसव पीड़ा आरंभ हुई। मनोज ने आनन-फानन में पत्नी को चोपन स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया तो वहां मौजूद डॉक्टरों ने उसे राबर्ट्सगंज स्थित लोढ़ी हॉस्पिटल ले जाने की सलाह दी। दर्द से बेहाल पत्नी को पति लोढ़ी हॉस्पिटल लेकर पहुंचा तो डॉक्टरों के टीम ने मामला गंभीर बताकर बीएचयू वाराणसी के लिए रेफर कर दिया। जब एम्बुलेंस से महिला को लेकर वाराणसी ले जाया जा रहा था कि रास्ते में अहरौरा स्थित हनुमान घाटी उतरते ही महिला ने तीन बच्चों को एम्बुलेंस में ही जन्म दे दिया।

एम्बुलेंस चालक ने एम्बुलेंस को अहरौरा स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की ओर मोड़ लिया। हॉस्पिटल पहुंचते ही महिला को इमरजेंसी वार्ड में भर्ती किया गया और तीनों नवजात को ऑक्सीजन लगाया गया।  सीएचसी अधीक्षक डॉ. हरिश्चंद्रा ने बताया कि महिला की सातवें महीने में ही डिलीवरी होने से बच्चे काफी कमजोर थे। तीनों का वजन मिलाकर लगभग दो किलो ही था। इसलिए उपचार के दौरान तीनों बच्चों की मौत हो गई।

Back to top button