रावण वध करते ही मां जानकी और लक्ष्मण संग अस्पताल पहुंचे श्रीराम, लेकिन क्यों

0
37

मंगलवार को पूरे देश में दशहरे का पर्व धूमधाम से मनाया गया. जगह-जगह प्रभु श्रीराम ने रावण का वध किया, जिसके बाद दशानन के पुतलों का दहन हुआ. ऐसा ही यूपी के मुजफ्फरनगर में भी हुआ, लेकिन इसके बाद रामलीला में श्रीराम की भूमिका निभाने वाले कलाकार ने जो किया, उसकी सब प्रशंसा कर रहे हैं.

दरअसल, नई मंडी कोतवाली क्षेत्र में स्थित एसडी कन्या इंटर कॉलेज में दशहरे के पावन पर्व पर रामलीला का आयोजन किया गया था, जिसमें भगवान श्री राम के स्वरूप का पाठ कर रहे एक कलाकार ने राम लीला समाप्त करते हुए रावण के वध के पश्चात मां जानकी, लक्ष्मण और रावण संग कार में सवार होकर जिला चिकित्सालय स्थित ब्लड बैंक पर पहुंचे.

यहां राम बने नितिन ने रक्तदान किया. इसके बाद उनहोंने कहा कि, समाज के युवा रक्तदान के लिए आगे आएं. इससे हम अपनी हेल्थ को बढ़िया रखने के साथ-साथ किसी दूसरे की हेल्प भी कर सकते हैं. कम-से-कम हर 3 महीने में एक बार ब्लड डोनेट जरूर करें.

इस दौरान मीडिया से बात करते हुए रावण बने युवक ने बताया कि रावण को हमेशा बुराई के प्रतीक के रूप में देखा जाता है लेकिन उसमें कुछ अच्छाइयां भी थीं उन्हीं को सामने लाने और युवाओं को रक्तदान के प्रति प्रेरित करने के लिए हम लोग यहां रक्तदान करने आए हैं. रावण ने कहा कि रक्तदान से बड़ा कोई दान नहीं. मां जानकी ने भी इस दौरान रक्तदान किया.