उत्तर प्रदेश

मुस्लिम समाज ने किया साबिर का हुक्का पानी बंद, वजह- ‘कांवड़’

ये खबर उत्तर प्रदेश के बरेली जिले से है. यहां के देवरनिया थाना क्षेत्र के गांव दोपहरिया में एक शख्स को सावन के महीने में कांवड़ लाना और भंडारे में बैठकर लोगों को खाना खिलाना महंगा पड़ गया. समुदाय के लोगों ने उसका हुक्कापानी बंद कर दिया. जिससे परेशान होकर पीड़ित ने थाना देवरनिया में शिकायत की है.

लोगों में जात—पात का मामला इतना बढ़ गया है कि लोग एक—दूसरे को भिन्न मानते हैं. एक समुदाय के लोग दूसरे समुदाय के लोगों से सम्बन्ध रखना पसंद नहीं करते हैं. आजकल लोगों में मानसिकता बहुत खराब हो चुकी है. जबकि कुछ लोगों की मानसिकता इतनी अच्छी है कि वे सभी धर्मो को समान समझते है.

ऐसा ही एक मामला जनपद के देवरनिया थाना क्षेत्र में देखने को मिला है, जहां गांव दोपहरिया का साबिर पुत्र अब्दुल करीम सावन माह की 12 तारीख को हिन्दू समाज के लोगों के साथ हरिद्वार से कांवड़ लेकर गया था और साथ ही गांव के मंदिर में जलाभिषेक के साथ भंडारे में लोगों को खाना खिलाने के साथ पूरी भागीदारी निभाई थी. इसी बात को लेकर मुस्लिम पक्ष साबिर से नाराज हो गया और इस मुद्दे पर साबिर का हुक्का पानी बंद कर दिया.

साबिर ने बताया कि उसने सावन माह में जलाभिषेक करने के साथ भंडारे में शिरकत की थी ताकि गांव में आपसी भाईचारे को बल मिले और लोग एक दूसरे के त्यौहार में सहयोग कर सके, लेकिन गांव के मुस्लिम समुदाय के लोगों ने उसका हुक्का पानी बंद करा दिया साथ ही उसे भद्दी भद्दी गालियां भी दी. पीड़ित ने परेशान होकर थाना देवरनियां में शिकायत की है. पीड़ित ने अपनी शिकायत में गांव के एक समुदाय के लोगों को आरोपी बनाते हुए कार्यवाही की मांग की है.

 

Back to top button