धर्म

मुसीबत आने से पहले ही तुलसी का पौधा देता है ये संकेत, मिलने लगे तो हो जाएं सावधान

तुलसी का पौधा सदियों से घरों में लगाया जा रहा है। हिन्दू धर्म के अनुसार तुलसी के पौधे को घर में लगाने से घर में सुख, समृद्धि और सकारात्मक ऊर्जा बनी रहती है। तुलसी का पौधा वैज्ञानिक दृष्टि से भी उत्तम माना गया है क्योंकि इस में बहुत से ऐसे औषधीय पदार्थ पाए जाते है जिनका प्रयोग हम दवाईयां बनाने में करते है। तुलसी की सात प्रकार की प्रजातियाँ पायी जाती है। जिनके नाम नीचे दिए गये है।

 

1- ऑसीमम अमेरिकन (काली तुलसी)।
2- ऑसीमम वेसिलिकम (मरुआ तुलसी)।
3- आसीमम ग्रेटिसिकम (अरण्यतुलसी)।
4- ऑसीमम किलिमण्डचेरिकम (कर्पूर तुलसी)।
5- ऑसीमम वेसिलिकम मिनिमम।
6- ऑसीमम सैक्टम।
7- ऑसीमम विरिडी।

 

तुलसी का प्रयोग आयुर्वैदिक दवाइयों के साथ साथ यूनानी, एलोपैथिक, होमियोपैथीक दवाइयों में भी किया जाता है। हिन्दू धर्म में इस पौधे को पवित्र माना जाता है। इस लोग घर के आंगन में या बाग़ में लगाते है। तुलसी के पत्तों को चाय या दूध में उबाल कर पीया जाता है। तुलसी को उबाल कर पीने से सारा शरीर ऊर्जावान बना रहता है और ज़ुकाम, ख़ासी आदि रोगों में राहत दिलवाता का काम करता है ।

 

कुछ लोगों का मानना है कि घर में जब कोई मुसीबत आने वाली होती है तो तुलसी के पौधा बार बार सूखने लगता है। आप तुलसी की पूजा करके मुसीबत से निजात पा सकते है। वही कुछ लोगो का विश्वास है कि घर में अगर कोई वस्तु दोष है तो तुलसी का पौधा दक्षिण में लगाने से वस्तु दोष ख़त्म हो जायेगा। आप के रिश्तेदारों से मत भेद दूर हो जायेंगे और आप को अगर पैसों की समस्या होगी तो वो भी दूर हो जाएगी।

 

तुलसी के पौधे को हिन्दू धर्म के अनुसार इस माता लक्ष्मीं कहा जाता है और इस को धन का प्रतीक माना जाता है। कई लोग तुलसी के पौधे के साथ विष्णु की पूजा भी करते है इसके साथ उनका मानना है कि ऐसा करने से घर में कलह जैसी परिस्थिति कभी पैदा नहीं होती है। घर में सभी प्यार के साथ अपनी अपनी जिंदगी को बसर करते है।

Back to top button