MP: दलितों ने कथा के लिए चंदा देने से मना किया, अगड़ों ने बुरी तरह पीटा

0
91

 

यह तस्वीर और घटना आपको विचलित कर सकती है। यह लोग गाँव नाहरगढ़ जिला उज्जैन तहसील महिदपुर थाना झारडा मध्य प्रदेश के रहने वाले है। सभी दलित समुदाय से हैं। गांव में ऊंची जाति के लोगों ने चंदा लेकर प्रसाद मांगने के बाबत कई लोगों को पीट दिया। इस पिटाई से दर्जनों लोग जख्मी भी हुए हैं। सोशल मीडिया पर ये तस्वीरें वायरल हो रही हैं।

घटना 13 जुलाई की है। गाँव के ठाकुरों ने एक दलित बुजुर्ग को महज इसलिए पीटा क्योंकि उन्होंने किसी कथा के लिए उन्हें 50 रुपये चंदा देने से कथित रूप से मना किया था। बुजुर्ग दलित का कहना था कि ‘तुम लोग हमसे चंदा लेते हो पर हमे नीची जात का कह कर हमे प्रसाद नहीं देते हो।’ इस बात पर ठाकुर साहब को गुस्सा आ गया और वो बुजुर्ग को बुरी तरह मारने लगे, बुजुर्ग के बचाव में कुछ लोग गए तो उन्हें भी कुल्हाड़ी, तलवार और दराते से मारा पीटा गया।

यहां तक की महिलाओ को भी बहुत बुरी तरह मारा गया है। दलित समुदाय की तमाम महिलाएं और पुरुष इस मारपीट से गम्भीर जख्मी हो चुके हैं। किसी के सिर में पट्टी बंधी है, किसी का पैर-हाथ जख्मी है तो किसी का सिर फट-फुट गया है। लोगों में भय सहित आक्रोश भी है तो कुछ ने कहा कि यह सब पिछले कई वर्षों से इसी तरह होता आ रहा है, और वह सभी गरीब कमजोर होने के चलते ज्यादती और जुल्म सहते झेलते आ रहे हैं।

पीड़ितों ने यह भी बताया कि यहां के रहने वाले ऊंची जाति के लोग (सिंधिया और ठाकुर) जबदस्ती उनसे अपने खेतों में काम करवाते हैं। मेहनताना तो दूर की बात अनाज तक भी नहीं देते हैं। अगर कोई काम करने नहीं जाता है या काम करने से मना कर देता है, तो उन्हें घर में घुस कर मारते हैं पीटते हैं। औरतों और लडकियों के साथ बलात्कार करने की धमकी देते हैं।

लोगों का कहना है कि आरोपी गाँव के सरपंच और क्षेत्र के थाना प्रभारी साहब में कोई रिश्तेदारी पता चलती है। इसलिए ठाकुर साहब, ठाकुर साहब को कहकर ठाकुर साहब पर कार्यवाही होने से बचा लेते हैं। अगर रिपोर्ट दर्ज भी होती है तो मामूली धारा लगा कर बचा लिया जाता है। आज की घटना में आरोपीयों ने धारदार हथियार से दलित समुदाय के तमाम लोगों को बुरी तरह मारा है।

उज्जैन के एडिशनल एसपी अमरेन्द्र सिंह ने मामले को संज्ञान में लेते हुए आश्वासन दिया है कि आरोपी पर उचित धाराओ में मामला दर्ज कर उसे गिरफ्तार किया जाएगा। अगर पाँच दिन के अन्दर आरोपी पर उचित धाराओ में एफआईआर नहीं होती है और उसे गिरफ़्तार नहीं किया जाता है तो पूरा गाँव एसपी कार्यालय में रहने आ जाएगा।

एडिशनल एसपी अमरेंद्र सिंह के दखल के बाद थाना झारड़ा जिला उज्जैन में महिलाओं पुरुषों से मारपीट के चलते गांव के ही चैन सिंह, सुल्तान सिंह, विक्रम सिंह, जीवन सिंह सहित नारायण सिंह पर मुकदमा संख्या 235/2020 की धारा 294/323/506 व 34 IPC में मामला दर्ज किया गया है तथा आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए दबिश भी दी जा रही है।