देश

मोदीराज में हो गया ‘कंडोम’ घोटाला, जानिए कितना बड़ा और कैसे हुआ ?

Image result for कंडोम

ऐसे तो देश में तमाम घोटाले सामने आते है. लेकिन इस नए और अजीबोगरीब घोटाले के लोगो को हैरानी में डाल दिया. ये घोटाला है कंडोम का. जहाँ देश की 11 बड़ी कंपनियों पर आपस में मिलीभगत कर साल 2010-14 तक सरकार को चपत लगाने का बड़ा आरोप लगा है. मिली जानकारी के मुताबिक अब इन कंपनियों पर जल्द ही कॉम्पिटिशन कमीशन ऑफ इंडिया (सीआईआई) अपनी कार्रवाई कर सकता है. सीआईआई की जांच में इन सभी कंपनियों पर बड़े स्तर पर धोखाधड़ी कर सरकार से अधिक पैसे लेने का आरोप लगा है.

रिपोर्ट के मुताबिक इन कंपनियों की मिलीभगत को लेकर एक अधिकारी ने बड़ा खुलासा करते हुए बतया की, इन कंपनियों में निदेशक, सीईओ और ऑपरेशनल हेड के लेवर पर कीमतों को पहले से ही तय करने को लेकर बातचीत चल रही थी. जांच में पता चला कि इन 11 कंपनियों ने आपस में मिलभीगत  कर बिना किसी प्रतियोगिता के बोली लगाई.

Image result for कंडोम

वही इस मामले में अधिकारी के मुताबिक पता चला की यह बोली लगाने में जानबूझकर गड़बड़ी का मामला सामने आया है. इन कंपनियों ने आपस में मिलीभगत के जरिए उंची बिड दे दी. ज्यादातर बोलियां समसे कम बोली की रेंज से 50 पैसे के अंदर थी. उन्होंने कहा कि इस स्थिति में अक्सर सरकार सबसे निचली बिड के करीब ऑफर देने वाले उत्पादक को विजयी बिड का मिलान करने को कहती है जिससे उन्हें टेंडर में ऑर्डर भी मिल जाता है.

Image result for कंडोम

बताते चले जिन कंडोम कंपनियों के खिलाफ जांच की कई है उसमें एक और जरुरी जानकारी प्राप्त हुई है. पता चला है की इन कंपनियों में दो सरकारी कंपनियां भी शामिल हैं. बता दें कि भारत सरकार के स्वास्थ्य परिवार कल्याण मंत्रालय ने अलग-अलग संगठनों को मुफ्त या फिर सब्सिडी वाले रेट पर वितरण के लिए साल 2014 तक बड़े पैमाने पर कंडोम की खरीद की थी.

जनकारी के लिए बताते चले जिन कंपनियों पर सरकार से धोखाधड़ी करने का आरोप है यदि ये कंपनिया दोषी पाई जाती हैं तो इन्हें अपने सालाना मुनाफा का तीन गुणा या फिर एवरेज टर्नओवर का 10 प्रतिशत हिस्सा बतौर जुर्माना देना होगा.

Back to top button