जवान बेटे ने मां के पैरों में डाल दीं बेड़ियां, कारण जान हो जाएंगे हैरान

मां एक ऐसा शब्द जिसके अंदर पूरी दुनिया की खुशी छुपी होती है. मां जो खुद पूरी रात जागती है कि बेटा सो जाए. वहीं जब बेटा बड़ा होता है तो मां की ममता का उसको एहसास ही नहीं रहता. मेरठ में मानवता को शर्मसार करने का एक गंभीर मामला सामने आया है. यहां एक कलुयगी बेटे ने अपनी बीमार मां को बेड़ियों से बांधकर रखा हुआ है. मेरठ के थाना खरखौदा की लोहिया नगर कॉलोनी में बेटे ने मां के पैरों में बेड़ियां डाल दी हैं.

मां के पैरों में बेटे ने डाली बेड़ियां

ये तस्वीर मेरठ के थाना खरखौदा की लोहिआ नगर कॉलोनी की है जंहा एक ऑटो रिक्शा के अंदर बुजुर्ग महिला लेटी हुई है और इसके पैरों में जंजीर बंधी हुई है. ऐसा क्या गुनाह है इनका जो इनको इस तरह से जंजीर से बांधा गया है. दरअसल अवरी बेगम को भूलने की बीमारी है और ये कहीं भी चली जाती हैं. मोहल्ले के बच्चे इन्हें पत्थर मारते हैं. इनको अभी करीब 2 महीने से बांधा गया है. दिन में इनको जंजीर से बांधा जाता है और रात में घर के अंदर कर दिया जाता है.

Advertisement

इस महिला के पति की मौत हो चुकी है. वह सरकारी कर्मचारी थे. महिला को पेंशन मिलती है, लेकिन ऐसी पेंशन भी किस काम की, जिससे वह अपना इलाज नहीं करा सकती. बेटे को अपनी लाठी समझने वाली मां को बेटा जंजीर से बांध कर रखता है.

advt

 

महिला की बहू बोली, इनका दिमाग काम नहीं करता

इनको ऐसे इसलिए बांध कर रखा है क्‍योंकि इनका दिमाग काम नहीं कर रहा. इनको दो या तीन महीने से ही बांधते हैं. दिन में बांधते हैं और रात में घर में सुलाते हैं. ये खाकर भूल जाती हैं. पूरी बिल्डिंग में चक्कर लगाती हैं. कोई इनको पत्थर मारता है तो कोई इनका दुपट्टा खींचकर गिरा देता है.

इसकी सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची और पूरे मामले की छानबीन की. पुलिस को लोगों ने बताया कि इनकी दिमागी हालत ठीक नहीं है. पुलिस का कहना है कि महिला को जंजीर से मुक्त कराया जाएगा. एसपी सिटी मान सिंह ने बताया कि अभी तक जो जानकारी मिली है, उसमें यही निकला कि महिला की दिमागी हालत ठीक नहीं है. हमने एसओ से कहा है कि जो भी संभव हो करें. महिला को बंधन से मुक्‍त कराएंगे.