उत्तर प्रदेश

मायावती के साथ मंच साझा कर बोले अखिलेश- ‘आ गया चौकीदार की चौकी छीनने का वक्त’

रविवार को उत्तर प्रदेश के देवबंद में महागठबंधन की पहली साझा रैली हुई. बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख मायावती, समाजवादी पार्टी के अखिलेश यादव और राष्ट्रीय लोकदल के नेता अजित सिंह चौधरी ने इस मौके पर एक मंच से भाषण दिया.

महागठबंधन की रैली में सपा नेता अखिलेश यादव ने कहा- ‘ये चुनाव इतिहास बनाने का चुनाव है. यहां ऐसे नेता आएं जो नफरत के अलावा कुछ नहीं बोले.’ अखिलेश ने पीएम मोदी के उस बयान पर भी पलटवार किया, जिसमें उन्होंने सपा-बसपा-आरएलडी के गठबंधन की तुलना ‘सराब’ से की थी. अखिलेश ने कहा- ‘सराब’ बोलने वाले लोग सत्ता के नशे में हैं.

अखिलेश यादव ने कहीं ये 10 बड़ी बातें. 

1. यह चुनाव, इतिहास बनाने का चुनाव है. यहां ऐसे लोग आए जो नफरत के अलावा कुछ नहीं बोले. उनके वादे कहां है. अच्छे दिन कहां हैं. कोई भी वादा पूरा नहीं किया. चुनाव आए तो चौकीदार बनकर आ गए. नफरत फैलाने वालों को पहचानिए.

2.सराब को शराब बोलने वाले सत्ता के नशे में हैं. जिसे वह मिलावट का गठबंधन बता रहे हैं वह महापरिवर्तन का गठबंधन है. नया प्रधानमंत्री बनाने का गठबंधन है.

3. मैं जनता के सामने भरोसा दिलाना चहाता हूं कि यही गरीब किसान मिलकर एक एक चौकीदार की चौकी छीनने का काम करेंगे. कहा कि जीएसटी से बडे लोगों को लाभ हुआ होगा. हमारे छोटे व्‍यापारीयो को कोई लाभ नहीं हुआ है. उनका कोई कारोबार आगे नहीं बढ़ा है.

4. अंग्रेजों से ज्‍यादा भाजपा ने समाज को बांट दिया है. बीएसपी और एसपी ने जितना देश को जोड़ा है उतना बीजेपी ने नहीं किया. कांग्रेस की नीतियां ही बीजेपी की नीतियां है. कांग्रेस बदलाव नहीं, पार्टी बनाना चाहती है. कांग्रेस व बीजेपी में कोई फर्क नहीं है.

5. हम सहारनपुर में है, यह तो एक ऐसी पवित्र धरती है, जहां एक तरफ शाकंभरी देवी का मंदिर है तो दूसरी तरफ दारुल उलूम है. यह देश को बदलने का चुनाव है. हमारी आपके बीच की दूरियां मिटाने का चुनाव है. यहां शाकंभरी में लोग माता के दर्शन करने आते हैं वहीं दारुल उलूम में पढ़कर मोहब्बत का पैगाम बांटते हैं.

6. हम इंतजार कर रहे थे कि कुंभ में 56 इंच का सीना दिख जाए, लेकिन हमें नहीं दिखा. भाजपा वाले कहते हैं बीएसपी-एसपी की सरकार में बिजली के क्षेत्र में काम नहीं हुआ है, मैं कहता हूं कि जितना हमारी सरकार में काम हुआ उतना बीजेपी की सरकार में नहीं हुआ. मैं भाजपा से अपील करता हूं कि नवरात्र पर संकल्प ले कि वह आगे झूठ नहीं बोलेगी.

7. भाजपा ने कहती है कि हम भ्रष्टाचार मिटा देंगे, कालाधन वापस आ जाएगा, लेकिन हमारा सारा पैसा बैंक में जमा करा लिया. जीएसटी से बड़े कारोबारियों को फायदा हुआ होगा, लेकिन छोटे किसानों की परेशानी बढ़ गई.

8. बीजेपी अपने पुराने वादों पर बात नहीं करना चाहती है. पहले हमारे बीच चाय वाला बनकर आ गये, हमने उनपर भरोसा कर लिया, हमने अच्छे दिन का भरोसा किया, हमने 15 लाख रुपये, करोड़ों रोजगार का भरोसा किया. अब चुनाव आया तो कह रहे हैं कि हम चौकीदार बनकर आए हैं.

9. ये टीवी पर गरीबों के पैर धो रहे थे और दूसरी तरफ नौकरियां धो डालीं. हमारे व्यापारी भाई बीजेपी सरकार में केवल लंच और मंच के लिए रह गए हैं, उनकी तरक्की नहीं हुई.

10. ये हमारे चौधरी चरण सिंह की विरासत को खत्म करना चाहते हैं, तो जान लें कि यह गठबंधन चौधरी चरण सिंह की विरासत को आगे बढ़ाने का गठबंधन है.

Back to top button