Breaking News
Loading...
Home / ख़बर / पुलवामा के ना’पाक’ गुनाहगार का चीन है यार, जानिए कब-कब बना बचाव में दीवार

पुलवामा के ना’पाक’ गुनाहगार का चीन है यार, जानिए कब-कब बना बचाव में दीवार

जैश ए मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को ग्लोबल अतंकी घोषित करने के भारत के प्लान पर फिर पानी फिर गया है. अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस द्वारा लाए गए प्रस्ताव पर चीन ने अड़गा लगा दिया. चीन का कहना है कि जैश ए मोहम्मद और मसूद अजहर का कोई कनेक्शन नहीं है. बता दें कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में मसूद को ग्लोबल आतंकी घोषित करने के प्रस्ताव पर आपत्ति दर्ज कराने का बुधवार को आखिरी दिन था. यदि रक्षा परिषद का कोई सदस्य मसूद के नाम पर आपत्ति नहीं जताता तो मसूद को ग्लोबल आतंकी घोषित करने की प्रक्रिया शुरू हो जाती.

पिछले 10 साल में संयुक्त राष्ट्र में मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित कराने का ये चौथा प्रस्ताव था. अब तक जितनी बार भी प्रस्ताव दिए गए हैं, चीन ने हर बार विरोध (वीटो) किया. इसके चलते प्रस्ताव सेंक्शन कमेटी तक नहीं पहुंच सका.

कब-कब चीन ने लगाया अड़ंगा
2009
मुंबई हमले के बाद पहली बार मसूद पर प्रतिबंध का प्रस्ताव पेश किया गया
चीन ने वीटो का किया था इस्तेमाल
2016
भारत ने सुरक्षा परिषद की प्रतिबंध समिति के समक्ष प्रस्ताव रखा, चीन ने रोका
2017
अमेरिका ने ब्रिटेन और फ्रांस के समर्थन से प्रस्ताव पारित किया, चीन ने वीटो किया
2019
फ्रांस के प्रस्ताव का ब्रिटेन अमेरिका ने समर्थन किया, लेकिन चीन ने अड़ंगा डाला

अब ये भी जान लीजिए कि अगर आतंकी मसूद अजहर पर बैन लग जाता तो क्या होता ? सबसे पहले तो उसके संयुक्त राष्ट्र संघ के किसी भी सदस्य देश की यात्रा पर रोक लग जाती. उसकी सारी चल-अचल संपत्ति जब्त कर ली जाती. संयुक्त राष्ट्र से जुड़े देश के लोग किसी तरह से आतंकी की मदद नहीं कर पाते. कोई भी देश मसूद को हथियार मुहैया नहीं करा पाता और पाकिस्तान को भी मसूद अजहर की गतिविधियों पर रोक लगानी पड़ती.लेकिन चीन ने ऐसा होने नहीं दिया.

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com