मंडप में दूल्‍हे की बाहों में बेहोश हो गई दुल्‍हन, होश में आकर बोली ऐसी बात कि चौंक गए सब

0
72

विवाह एक पवित्र बंधन है, जो हर किसी के जीवन में यह शुभ घडी आती है। ऐसे में शादी के पवित्र बंधन में दो लोगो को बंधना काफी शुभ माना गया है। अक्सर सरकार की ओर से भी विवाह आयोजन किये जाते है, जिसमें दो लोगो को शादी के पवित्र बंधन में बांधते है। इसी तरह का कुछ दृश्य हाल ही में धनबाद जिले में देखने को मिला।

यहाँ सबसे बड़ा विवाह का आयोजन किया गया और विवाह के हर रंग के पहलु देखने को मिले। विवाह इन रंगों में समधी मिलन, दुल्हन की सहेलियों का हास्यप्रद बाते, घूंघट की आड़ में दुल्हन शर्माना, दूल्हन का सबकी नजरों से बचकर अपने पिया से नजरें मिलाना, कन्यादान में आँखों का नम होना तो विदाई के समय आँखों से आंसूओं का छलक जाना जैसे रंग दिखाई दिये।

जयमाला के समय जब स्टेज पर एक साथ 57 जोड़ों ने एक-दूसरे को वरमाला पहनाया तो शहर के लगभग 10 हजार लोगों ने उन पर फूल की वर्षा की। पुरे धूम-धड़ाके के साथ जब बारात निकली तो पूरा शहर बाराती बन कर नाचने लगा और जब बारात वापस स्टेडियम पहुंची तो वहीँ सारे बाराती घराती बन दूल्हे के स्वागत में लग गए। 46 मंडपों में वैदिक मंत्रोच्चार्ण के बीच 46 जोड़ों ने एक-दूसरे को अपना जीवन साथी बनाया इसके साथ ही 5 मुस्लिम जोड़ों ने एक-दूसरे को कबूल किया और 6 ईसाई जोड़ो ने एक-दूसरे के जीवन साथी बनाया।

इन सब के बीच वर और वधू जब वरमाला स्टेज पर पहुंचे तो वरमाला की तैयारी के दौरान दुल्हन गजला बेहोश हो गई। उसे उठाकर स्टेज से उतारा गया जब गजला होश में आई तो वह रोने लगी जब उससे वजह पूछा गया तो उसने बताया कि इस शादी से उसके पिता नाराज हैं और वह उसकी शादी में नहीं आए जिसे लेकर वह काफी दु:खी है।