ख़बरदेश

आखिर हो ही गई सुलह, ममता ने मानी डॉक्टरों की मांग, खत्म हुई हड़ताल

मेडिकल कॉलेजों के प्रतिनिधियों ने सोमवार को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के साथ नाबाना में बैठक की. इस बैठक के बाद जूनियर डॉक्टरों ने अपनी स्ट्राइक खत्म कर दी है. बैठक के दौरान मुख्यमंत्री ने पुलिस से राज्य के सभी सरकारी अस्पतालों में डॉक्टरों की सुरक्षा के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त करने के लिए कहा है. बता दें कि राज्य में करीब एक हफ्ते से जूनियर डॉक्टर अपनी सुरक्षा को लेकर हड़ताल पर है. इस हड़ताल से स्वास्थ सेवाएं पूरी तरह से चौपट हो गई है.

राज्य सचिवालय में हुई बैठक में, डॉक्टरों के एक प्रतिनिधिमंडल ने बनर्जी को मेडिकल कॉलेजों और अस्पतालों में होने वाली समस्याओं से अवगत कराया और कहा कि वे अपनी सुरक्षा को लेकर चिंतित हैं. इसके बाद बनर्जी ने बैठक में मौजूद पुलिस अधिकारियों को डॉक्टरों को सुरक्षा प्रदान करने के लिए राज्य के अस्पतालों के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त करने को कहा. बैठक में 31 जूनियर डॉक्टरों के अलावा पश्चिम बंगाल के स्वास्थ्य सचिव, MoS चंद्रिमा भट्टाचार्य और राज्य के अन्य अधिकारी मौजूद थे.

राज्य सरकार, जिसने हड़ताली डॉक्टरों की मांग पर सहमति व्यक्त की थी कि मीडिया की उपस्थिति में बातचीत होनी चाहिए, केवल दो क्षेत्रीय समाचार चैनलों को बैठक को कवर करने की अनुमति दी. मुख्यमंत्री ने हड़ताली डॉक्टरों से कहा कि राज्य सरकार ने किसी भी डॉक्टर को हिरासत में नहीं लिया है.

जूनियर डॉक्टरों के संयुक्त मंच के प्रतिनिधियों ने 11 जून को NRS मेडिकल कॉलेज और अस्पताल में डॉक्टरों पर हमले में शामिल लोगों को सजा दिए जाने की मांग की. इस पर बनर्जी ने कहा कि राज्य सरकार ने पर्याप्त उपाय किए हैं और NRS की घटना में शामिल पांच लोगों को गिरफ्तार किया है. बनर्जी ने जूनियर डॉक्टरों द्वारा प्रस्तावित सभी राज्य अस्पतालों में शिकायत निवारण इकाइयों के गठन का भी निर्देश दिया.

बता दें कि यह हड़ताल पिछले हफ्ते सोमवार को शुरू हुई थी जब एक मरीज नील रतन सिरकार की मौत के बाद परिजनों के हमले में एनआरएस अस्पताल के दो जूनियर डॉक्टर घायल हो गए थे. कोलकाता में अपने हड़ताली सहयोगियों के साथ एकजुटता दिखाते हुए दूसरों राज्यों के जूनियर डॉक्टर भी इस हड़ताल में शामिल हो गए.

रविवार (16 जून) को ढाई घंटे की बैठक के बाद मीडिया से बात करते हुए, जूनियर डॉक्टरों के संयुक्त मंच के एक प्रवक्ता ने कहा था, ‘हम इस गतिरोध को समाप्त करने के इच्छुक हैं. हम सीएम ममता बनर्जी की पसंद की जगह पर उनके साथ बातचीत के लिए तैयार हैं, बशर्ते कि यह बैठक खुले में मीडियाकर्मियों की मौजूदगी में आयोजित किया जाए, न कि बंद दरवाजों के पीछे.

 

Back to top button