मां शीतला के धाम में उमड़े भक्त, चढ़ाया बासी भोजन

मैनपुरी में शीतला अष्टमी के महापर्व पर माता शीतला के दरबार में श्रद्धालुओं का तांता लगा रहा. माता की उपासना कर किसी ने हवन-पूजन किया तो किसी ने चुनारी चढ़ाई. माता से मनौतियां मांगने की सिलसिला भी देर शाम तक चलता रहा. देखिये मैनपुरी से ऋषि मिश्रा की रिपोर्ट

देखिये वीडियो

मैनपुरी में शीतला अष्टमी का महापर्व धूमधाम से मनाया गया. सुबह होते ही सिद्ध शीतला धाम में श्रद्धालुओं की लंबी-लंबी कतारें लगने लगीं. कपाट खुलते ही भक्तों ने माता का पूजन किया. देर शाम तक भक्तों की भीड़ माता के दर्शनों के लिए उमड़ती रही. दूर-दूर से आने वाले श्रद्धालुओं ने नाच-गाकर मनौतियां मांगीं.

मैनपुरी में शीतला माता के मंदिर के पास ही काली माता का मंदिर भी है. मान्यता है कि काली मां के दर्शन के बिना शीतला माता का दर्शन भी अधूरा माना होता है. इस मंदिर पर भी दिन भर श्रद्धालु दर्शन के लिए उमड़ते रहे.

किसी भी शुभ कार्य के लिए शीतला अष्टमी को बेहद शुभ माना जाता है. इसी मान्यता के तहत शुक्रवार को मंदिर परिसर में मुंडन संस्कार के लिए भी भारी भीड़ दिखी. शीतला अष्टमी को बसोड़ा अष्टमी के नाम से भी जानते हैं. ऐसी मान्यता है कि माता को बासी प्रसाद चढ़ाने से सभी प्रकार की मनौतियां पूर्ण होती हैं. भक्तों ने फल-फूल और मिष्ठान के अलावा घर से लाए गए बासी भोजन और पकवानों से भी माता रानी को भोग लगाकर पूजन किया.