वाह रे धरती के भगवान! मृत महिला को जिंदा बता रेफर कर दिया अस्पताल

लखनऊ: किंग जार्ज चिकित्सा विविद्यालय के क्वीन मेरी अस्पताल में आज उस वक्त हड़कम्प मच गया, जब मोहनलालगंज के निजी अस्पताल के लोग महिला मरीज को रेफर करने के बहाने सोमवार को छोड़ कर भाग गये। परिवारीजनों का आरोप है कि गाड़ी में शिफ्ट करने से पहले ही प्रसूता की मौत हो चुकी थी, इसके बावजूद अस्पताल प्रशासन ने एक निजी गाड़ी कर महिला मरीज को जिंदा बताकर जबरन बैठा क्वीन मेरी अस्पताल भेज दिया।

अस्पताल में इमरजेंसी के डॉक्टरों ने प्रसूता को मृत घोषित कर दिया, तो इसके बाद परिवारीजनों ने क्वीनमेरी अस्पताल के बाहर ही निजी अस्पताल के खिलाफ हंगामा करने लगे। निगोंहा के रामू की पत्नी को प्रसव पीड़ा होने पर लालपुर उपकेंद्र पर ले गया, जहाँ बिना जांच किये ही उपकेंद्र के लोगों ने शिशु को उल्टा बताकर मोहनलालगंज के एक निजी अस्पताल जाने की सलाह दी। रामू का आरोप है कि जब वह उक्त अस्पताल पहुंचा तो डाक्टरों ने ऑपेरशन की बात कहकर बीस हजार जमा करने को कहा, जिस पर मजदूर रामू ने सात हजार रुपये ही जमा किये, जिसके बाद आपरेशन से लड़की का जन्म कराया।

रविवार रात हालत बिगड़ने तो परिजन डाक्टर को बुलाने को कहा पर तत्काल शुल्क न देने पर डाक्टर सोमवार सुबह आयी, तब तक प्रसूता की मौत हो गयी। पति रामू ने बताया कि सुबह 10 बजे प्रसूता की मौत हो चुकी थी। इसके बाद भी अस्पताल प्रशासन ने अपने को बचाने के लिए आनन-फानन में एक निजी गाड़ी कर के उसमें जबरन प्रसूता को जिंदा बताकर इलाज के लिए क्वीनमेरी अस्पताल रेफर कर दिया। क्वीन मेरी अस्पताल पहुंचने पर डॉक्टर ने प्रसूता को गाड़ी से बाहर निकाला।

जैसे ही परिवारीजन उसे अंदर ले जाने लगे डॉक्टर गाड़ी से ही वापस भाग निकला। परिजनों ने इमरजेंसी में प्रसूता को लेकर पहुंचे वहां मौजूद डॉक्टरों ने उसे पहले से ही मृत घोषित कर दिया। आक्रोशित परिजनों ने क्वीनमेरी के बाहर जमकर हंगामा किया और शव लेकर सीधे उक्त अस्पताल पहुंचे। अस्पताल प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी करते हुए जमकर हंगामा किया। पति रामू ने कहा है कि इसकी शिकायत मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय में की जाएगी।