ख़बरदेश

लालू हैं गुस्से में लाल, जेल से ही चलाएंगे कइयों पर हंटर, जानिए क्यों ?

राजद की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के बाद संगठन के बदलाव की उल्टी गिनती शुरू हो जाएगी। बताया जा रहा है कि चुनाव में मिली करारी हार से लालू प्रसाद काफी गुस्से में है। पांच जुलाई को आरजेडी का स्थापना दिवस है। उसके अगले दिन राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक है। बैठक के बाद संगठन के वर्तमान स्वरूप को को बदलने की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार बैठक में कई नेताओं पर गाज गिरने वाली है।

राजद की स्थापना 5 जुलाई 1997 को हुई थी।चारा घोटाला मामले में लालू प्रसाद जेल में सजा काट रहे हैं। लिहाजा इस बार राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक लालू प्रसाद के गैरमौजूदगी में हीं होगी।हालांकि कार्यकारिणी का एजेंडा क्या होगा यह अबतक क्लीयर नहीं है।

इस बार के लोकसभा चुनाव में राजद को मिली करारी हार के बाद पार्टी चारो खाने चित्त है।पार्टी को समझ में समझ में नहीं आ रहा कि आगे क्या किया जाए।लिहाजा राष्ट्रीय कार्यकारिणी में पार्टी को हार के सदमे से उबारने की नई रणनीति बनेगी।

2020 में होने वाले बिहार विधानसभा चुनाव से पहले राजद अपने संगठन को कसने की कोशिश करेगी।क्यों कि इस बार के लोकसभा चुनाव में संगठन में तालमेल का अभाव दिखा था।अगर बीच में कमेटि में बदलाव होता है तो इसका अर्थ स्पष्ट है कि आगामी विधानसभा चुनाव से पहले राजद अपने संगठन को मजबूत बनाना चाहती है।

वैसे सिर्फ राजद के नेताओं के बीच आपसी तालमेल की कमी है है बल्कि पार्टी सुप्रीमो लालू परिवार के अंदर भी भारी विरोध है।यूं कहें कि लालू के दोनों लाल के बीच बगावत स्पष्ट तौर पर दिखती है।लोकसभा चुनाव में सीट बंटवारे को लेकर लालू के दोनों बेटों में मतभेद स्पष्ट तौर पर दिखे थे।इसका प्रभाव चुनाव पर भी देखने को मिला था। चुनावी में मिली करारी हार के बाद पार्टी का नेतृत्व कर रहे तेजस्वी यादव आज्ञात वास में चले गए।इससे भी इस बात को बल मिलता है कि लालू परिवार के भीतर सबकुछ टीक नहीं है।

लोकसभा चुनाव के पहले प्रदेश अध्यक्ष डॉ. रामचंद्र पूर्वे ने पार्टी लाईन से इतर जाकर दर्जनों प्रदेश महासचिव नियुक्त कर दिए थे।नियुक्त करने के पीछे चाहे जो भी मजबूरी हो लेकिन उपरी तौर पर कहा गया कि चुनाव में इससे फायदा लेना। लेकिन रामचंद्र पूर्वे की इस कोशिश से कोई फायदा नहीं मिला। अब खबर है कि राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक के बाद जब संगठन को कसा जाएगा तो उनमें से कईयों की छुट्टी होगी।

Back to top button