क्राइम

लखनऊ : दिनदहाड़े माफिया मुख्तार अंसारी के प्रतिनिधि और भाई पर दबंगों ने चलाई गोली

Image result for मुख्तार अंसारी

लखनऊ। राजधानी लखनऊ में हजरतगंज में हबीबुल्ला स्टेट के पास मंगलवार शाम सरेआम बदमाशों ने बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी के प्रतिनिधि और उसके भाई को गोली मारी गई है। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक दोनों मिराज लाउंज से बाहर निकले थे। वहां पहले से घात लगाए बैठे बदमाशों ने चार से पांच राउंड फायरिंग करके उन्हें लहूलुहान कर दिया और फरार हो गए। घटना की सूचना पर पहुंची पुलिस ने घायलों को ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया है। पुलिस के मुताबिक शाहिद के सीने और पीठ में गोली लगी है जबकि नामवर के पैर में गोली लगी है। शुरूआती जांच में सामने आया है कि शाहिद बाहुबली मुख्तार अंसारी का प्रतिनिधि है और लखनऊ में उनका काम देखता है। वही घायलों ने हमले के पीछे बाहुबलि पूर्व सांसद धनंजय सिंह पर साजिश का आरोप लगाया है।

हजरतगंज में मुख्तार अंसारी के करीबी सगे भाइयों को मारी गोली, पूर्व सांसद धनंजय सिंह पर आरोप Lucknow News

इंस्पेक्टर हजरतगंज राधा रमण सिंह ने बताया कि शाहिद और नामवर मूल रूप से मऊ जनपद के रहने वाले हैं। दोनों यहां वजीरगंज इलाके में परिवार के साथ रहते हैं। दोनों अक्सर हबीबुल्ला इस्टेट स्थित मिराज लाउंज में आते थे। मंगलवार दोपहर करीब तीन बजे दोनों लाउंज आए थे।

शाम करीब 6:30 बजे वह लोग बाहर निकल कर जा रहे थे। तभी बाइक सवार बदमाशों ने उन पर हमला कर दिया। दोनों जान बचाकर भागे तो हमलावरों ने उन्हें दौड़ा लिया और करीब चार से पांच राउंड फायरिंग की।

गोली लगने से शाहिद व नामवर घायल हो गए जिसके बाद हमलावर फरार हो गए। हजरतगंज में सरेशाम हुई अंधाधुंध फायरिंग से इलाके में दहशत मच गई। घटना की सूचना पर एएसपी पूर्वी सुरेन्द्र रावत, सीओ अभय कुमार मिश्रा व इंस्पेक्टर राधा रमण सिंह फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे। पुलिस ने दोनों घायलों को ट्रॉमा सेंटर में भर्ती कराया है। इंस्पेक्टर ने बताया कि दोनों का इलाज ट्रामा सेंटर में चल रहा है।

पुलिस को दी तहरीर, होगी एफआइआर
आरोप है कि धनंजय सिंह और आलोक सिंह ने साजिश के तहत जानलेवा हमला कराया है। सगे भाई मुख्तार अंसारी का कारोबार देखते हैं। पुलिस को पीडि़त पक्ष की ओर से तहरीर दी गई है, जिसमें धनंजय और आलोक समेत अन्य पर गंभीर आरोप लगे हैं। हजरतगंज पुलिस का कहना है कि तहरीर के आधार पर आरोपितों के खिलाफ एफआइआर दर्ज कर छानबीन की जाएगी।

Back to top button