उत्तर प्रदेश

पानी से भरी सड़क पर नंगे पांव उतरी ‘लेडी सिंघम’, बचा लीं कई गरीबों की जिंदगियां

बुलंदशहर में तैनात और लेडी सिंघम के तौर पर मशहूर महिला इंस्पेक्टर अरुणा राय की बहादुरी और इंसानियत के किस्से आम हो चले हैं। वे कभी अपराधियों पर काल बनकर टूटती हैं तो कभी मजबूरों और मजलूमों की सहारा बनती देखी जाती है। इंस्पेक्टर अरूणा राय ने एक बार फिर इंसानियत की मिसाल पेश की है। उन्होंने खुद गाड़ी में धक्का लगाकर तीन रिक्शा चालकों को बचाया । इतना ही नहीं उन्होने रोड पर खड़ी एक क्षतिग्रस्त कार को भी खुद किनारे लगवाया।
 

जानिए पूरा मामला

मंगलवार सुबह तेज हवा के साथ तेज बरसात भी हो रही थी। इस दौरान तीन ई- रिक्शा चालकों समेत कुछ लोग अंसारी रोड स्थित शर्मा इंटर कालेज के पास स्थित एक नीम के पेड़ के नीचे बारिश से बचने के लिए खड़े हुए थे। लेकिन  इसी दौरान अचानक नीम का पेड़ गिर गया । वही पेड़ को गिरता देखकर उसके नीचे खड़े लोग वहां से जान बचाकर भाग गए, लेकिन पेड़ के नीचे तीन चालक अपनी ई-रिक्शा सहित दब गए।
जैसे ही इंस्पेक्टर अरुणा राय  को यह सूचना मिली तो वह बिना एक पल की देरी किए तेज बारिश में ही मौके पर जा पहुंची। यहां उन्होने जीप में जूते उतार कर रख दिए और फिर अपने हमराहों व स्थानीय लोगों की मदद से लेडी सिंघम अरूणा राय ने पेड़ के नीचे ई-रिक्शा के साथ दबे तीनों चालकों को सकुशल निकाल लिया। इसके बाद पेड़ को रास्ते से हटवाकर यातायात सुचारू करा दिया।

कार को खुद धक्का मार किनारे लगवाया

अभी यहाँ यातायात सुचारू रूप से चलना शुरू ही हुआ था कि तभी उन्हें खबर मिली कि बुलन्दशहर के भूतेश्वर मन्दिर के पास एक हादसा हो गया है। यह सूचना मिलते ही वह तत्काल फोर्स के साथ मौके की और दौड़ी। यहां उन्होने देखा किसी अज्ञात वाहन से टकराकर क्षतिग्रस्त हुई एक कार सड़क के बीचों बीच खड़ी हुई है, जिसमें एक परिवार सवार था। ये देखकर इंस्पेक्टर अरुणा राय जीप से उतरी और पानी से लबालब हुई सड़क पर जा पहुंची। यहां उन्होने अपने हमराहों की मदद से क्षतिग्रस्त कार को धकेल कर सड़क के किनारे कराया।  इंस्पेक्टर की ये तत्परता देखकर लोग उनकी प्रशंसा करने लगे।
वैसे ये पहली बार नहीं है जब लेड़ी सिंघम ने तत्परता दिखाई हो। बता दे कि कुछ दिन पहले वे एक कुख्यात इनामी बदमाश को गिरफ्तार करने के लिए सड़क पर दौड़ती नजर आई थी। इस दौरान बदमाश ने इंस्पेक्टर अरूणा राय पर पिस्टल भी तान दी थी लेकिन उन्होने बिना घबराए अपनी टीम के सहयोग से बदमाश को धर दबोचा था। इस घटना को लेकर अरूणा राय काफी चर्चा में बनी रही थी। और उनकी बहादुरी की काफी सराहना भी हुई थी।
Back to top button