नई दिल्ली में बीजेपी दी इतना ‘हल्का’ उम्मीदवार, अपनी सीट की ओर देख ही नहीं रहे केजरीवाल !

0
19

दिल्ली विधानसभा चुनाव में नई दिल्ली विधानसभा सीट से मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के सामने भाजपा ने सुनील यादव को मैदान में उतारा है. उन्हें प्रत्याशी बनाए जाने पर सियासी गलियारों में तरह तरह की चर्चा है, कुछ का कहना है कि भाजपा ने छोटे कद के कार्यकर्ता को अरविंद केजरीवाल के सामने चुनाव मैदान में उतार कर केजरीवाल को वाक ओवर दे दिया है. वहीं पार्टी के पदाधिकारियों का कहना है कि सुनील का कद भले ही छोटा है, लेकिन स्थानीय चेहरा होने के साथ ही क्षेत्र में उनकी पकड़ मजबूत है, इसका फायदा पार्टी को मिलेगा.

नई दिल्ली विधानसभा सीट पर आम आदमी पार्टी के उम्मीदवार अरविन्द केजरीवाल को घेरने के लिए भाजपा ने अंतिम समय तक मंथन किया. पार्टी के स्थानीय पदाधिकारी और कार्यकर्ता पहले यह मान रहे थे कि केजरीवाल को उनके चुनाव क्षेत्र में घेरने के लिए पार्टी किसी दिग्गज नेता को उनके सामने खड़ा करेगी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ.

पार्टी ने युवामोर्चा के प्रदेशाध्यक्ष सुनील यादव, जो कि पेशे से वकील है, को केजरीवाल के सामने चुनाव मैदान में उतार दिया. इस फैसले पर भाजपा पदाधिकारियों का कहना है कि पार्टी ने सुनील यादव को केजरीवाल के सामने यूं ही मैदान में नहीं उतारा. यादव नई दिल्ली सीट का वो युवा चेहरा है जिसकी स्थानीय स्तर पर जमीनी पकड़ बहुत मजबूत हैं. वे शुरुआत से ही सामाजिक कार्यों में आगे रहे हैं.

सुनील ने अपने राजनीतिक करियर की शुरूआत भाजपा की युवा इकाई के मंडल अध्यक्ष के तौर पर की थी. इसके बाद अपने कार्यो के आधार पर पार्टी ने उन्हें युवामोर्चा में जिलाध्यक्ष, दिल्ली प्रदेश महामंत्री, और दिल्ली के सचिव पद की भी जिम्मेदारियां दी. दिल्ली के 2013 और 2015 के विधानसभा चुनावों में सुनील टिकट के प्रबल दावेदारों में रहे हैं. 2017 में एंड्रयूज गंज से उन्होंने नगर निगम पार्षद का चुनाव लड़ा लेकिन हार गए.

वे सोशल मीडिया पर भी काफी सक्रिय नजर आते हैं. ट्विटर पर सुनील के करीब 16 हजार से भी ज्यादा फॉलोअर्स हैं. इसके साथ ही उनके फेसबुक के आधिकारिक पेज पर लगभग एक लाख लाइक्स हैं.