बड़ों की बातें

जानिए कितना जानलेवा है कम उम्र में सेक्स करना, पहले पढ़ ले ये 5 बड़े नुकसान

कम उम्र में संबंध बनाने से होते हैं ये 5 बड़े नुकसान, चौथा वाला है सबसे खतरनाक

समय के साथ लोगों के रहन-सहन और सोच में बड़ा बदलाव आ चुका है और इस बदलाव के साथ समाज के पुराने नियम कायदे कहीं पीछ ठूटते नजर आ रहे हैं। पर इसके साथ ये समझना बेहद जरूरी है कि हर बदलाव सकारात्मक नहीं होता, क्योंकि समाज के पुराने नियम और मान्यताओं के पीछे कुछ ना कुछ वजहें रही हैं, जो कि लोगों की भलाई के लिए ही बनाई गई है, ऐसे में जब हम इन नियमों को भूलाकर आगे बढ़ते हैं तो उसका खामियाजा भी हमें ही भुगतना पड़ता है। ऐसे ही कुछ नियम स्त्री पुरूषों के सम्बंधो को लेकर भी बनाए गए हैं।

पर आज के समय में लड़के–लड़कियां इन सारे नियमों को ताक पर रखकर एक दूसरे के साथ सम्बंध बना रहे हैं, आज कम उम्र में ही लड़के -लड़कियों में सेक्स के प्रति झुकाव देखने को मिल रहा है। जबकि समाज और कानून के द्वारा शादी और सम्बंधो के लिए एक निश्चित उम्र निर्धारित की गई है जो कि शारीरिक संरचना को ध्यान में रखकर बनाए गए हैं। पर आजकल पश्चिमी सभ्यता के प्रभाव और समाज के खुलेपन के कारण किशोरावस्था में ही लड़के लड़कियों में सेक्स की प्रति रूझान बढ़ रहा है, ऐसे में कम उम्र में शारीरिक संबंध बनाने से कई तरह की शारीरिक समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। जबकि ज्यादातर युवा और किशोर इससे वाकिफ नहीं होते हैं। आज हम आपको ऐसी ही कुछ समस्याओं के बारे में बताने जा रहे हैं जो कि कम उम्र में शारीरिक सम्बंधो के कारण हो सकते हैं।

कम उम्र में शारीरिक – संबंध बनाने से लड़का हो या लड़की, उनके शारीरिक विकास को काफी नुकसान पहुंचता है। स्वास्थ्य विशेषज्ञों का कहना है कि जो किशोर कमउम्र में ही संबंध बनाते हैं उनका विकास बाकी लोगों की तुलना में रूक जाता है। ऐसी अवस्था में शारीरिक विकास के लिए ली गई महंगी दवाओं का भी शरीर पर कोई असर नहीं पड़ता है।

कम उम्र में नादानी में बनाएं गए संबंधों का सबसे बड़ा नुकसान ये होता है कि अगर ऐसे सेक्स संबंधों में सावधानी न बरती जाएं तो गर्भ ठहरने का खतरा भी रहता है जो कि इससे शारीरिक रूप के साथ–साथ किशोरी लड़की के मानसिक स्वास्थ्य के लिए भी खतरनाक हो सकता है। कम उम्र में मां बनना जहां लड़की के सेहत को सीधे तौर पर नुकसान पहुंचाता है वहीं, सामाजिक रूप से मिलने वाले अपयश के कारण उसके मानसिक रूप से भी कमजोर कर देता है।

जी हां, कम उम्र में संबंध बनाना मानसिक सेहत के लिए इतना नुकसानदायक हो सकता है कि इससे व्यक्ति डिप्रेशन में पहुच जाए, दरअसल अक्सर ऐसा देखा गया है कि कम उम्र में संबंधों में पड़ जाने की वजह से लड़के-लड़कियों का ध्यान करियर जैसी बाकी जरूरी चीजों से हट जाता है। ऐसे में किशोर अपने करियर पर सही ढंग से ध्यान नहीं दे पाते। वहीं कम उम्र में बनाए गए रिश्ते की सफलता पर भी संशय रहता है,ऐसे में शारीरिक संबंधों के बाद भी रिश्तों में दरार पड़ जाए तो ये मानसिक आघात को जन्म देता है, जिसकी शिकार ज्यादातर लड़कियां ही होती हैं।

कम उम्र में शारीरिक – संबंधों में अक्सर ऐसी गलतियां हो जाती है जिनका खामियाजा शारीरिक रूप से झेलना पड़ता है। दरअसल किशोरों को सेक्स की सही जानकारी ना होने के कारण नादानी में किए गए सेक्स से उन्हें यौन संक्रमण और प्राइवेट पार्ट में इन्फेक्शन जैसी समस्याओं का सामनना करना पड़ सकता हो सकता है।

वहीं शारीरिक – संबंधोंके प्रति ज्यादा जानकारी ना होने की वजह से यौन संक्रमण के रूप में सबसे बड़ा खतरा एचआईवी एड्स जैसी गंभीर बीमारी का शिकार होने का रहता है। किशोर लड़के कई बार मजे के लिए ऐसे असुरक्षित शारीरिक – संबंधोंबना लेते हैं, जो कि उनके जिंदगी के लिए अभिशाप बन जाता है।

Back to top button