खेल

हार्दिक पांड्या अब सुधर गए हैं, उनकी गलतियां नादानी समझ कर दी जाएं माफ

बीती रात वानखेड़े में चेन्नई और मुंबई के बीच इस सीजन का 15वां मैच खेला गया. जिसे मुंबई ने 37 रनों से जीत लिया. मुंबई की इस जीत के असली हीरो रहे हार्दिक पांड्या. जिन्होंने अपने आलराउंड खेल से चेन्नई को हारने में अहम भूमिका निभाई.

मुंबई के 171 रनों के जवाब में चेन्नई की टीम अपने निर्धारित 20 ओवर में 133 रन ही बना सकी. आज मुंबई के लिए हार्दिक पांड्या ने पहले बल्ले से मात्र 8 गेंदों पर नाबाद 25 रन बना डाले. जिसमे 3 गगनचुंबी छक्के शामिल थे. तो वहीँ गेंदबाजी से उन्होंने अपने 4 ओवर में 20 रन देकर 3 महत्वपूर्ण विकेट लिए.

हार्दिक पांड्या के इस शानदार आलराउंड प्रदर्शन की बदौलत उन्हें इस मैच में मैन ऑफ द मैच के पुरस्कार से नवाजा गया. यह वैसे आईपीएल में मुंबई की ओवरआल 100वीं जीत थी. वो ऐसा करने वाली आईपीएल की पहली टीम बन गई है.

चेन्नई के खिलाफ मैन ऑफ द मैच बने हार्दिक पांड्या ने कहा कि टीम की जीत में मदद करना और उसमें योगदान देना वास्तव में अच्छा लगता है. मुझे प्रतिस्पर्धी क्रिकेट खेलते हुए सात महीने हो चुके हैं. मैंने बल्लेबाजी की और बल्लेबाजी की और नेट्स में बल्लेबाजी की. मैं कोई ऐसा व्यक्ति हूं. जिसे मैच का समय पसंद है और मैं इस समय वास्तव में उन्हें अच्छी तरह से मार रहा हूं.

इसके बाद हार्दिक पांड्या ने कहा कि हाँ मुझे चोट लगी और फिर विवाद भी हुआ. ये सात महीने आसान नहीं थे और मुझे यकीन नहीं था कि मुझे क्या करना है. यह पुरस्कार विशेष है और मैं इसे उन सभी को समर्पित करता हूं. जो उन कठिन समय के दौरान मेरे साथ खड़े रहे. मेरा लक्ष्य प्रदर्शन और उम्मीद रखना है कि भारत को विश्व कप जीतने में अपना योगदान दे सकूं.

Back to top button