ख़बरदेश

बेटी के कत्ल के केस में कैद उस महिला का बयान, जिसके चलते चिदंबरम हुए गिरफ्तार, पढ़ें

करीब 30 घंटे की मशक्कत के बाद पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम को गिरफ्तार कर रात 8 बजे सीबीआई के नए मुख्यालय लाया गया. इसी दफ्तर के लॉकअप में उन्हें रात बितानी पड़ी और अफसरों के सवालों का जवाब दिया. चिदंबरम की गिरफ्तारी की वजह बना इंद्राणी मुखर्जी का CBI और ED को दिया गया बयान. इंद्राणी और उनके पति पीटर मुखर्जी ही उस INX मीडिया के मालिक थे, जिसका यह पूरा मामला है.

ये वही इंद्राणी मुखर्जी हैं, जो बहुचर्चित शीना बोरा याने अपनी बेटी के मर्डरकेस की मुख्य आरोपी हैं और फिलहाल जेल में हैं. इंद्राणी 11 जुलाई को INX मीडिया केस में इकबालिया गवाह बन गई थी. इंद्राणी मुखर्जी ने अपने बयान में कहा था कि एफआईपीबी मंजूरी में हुए उल्लंघन को कथित तौर पर रफा-दफा करने के लिये 10 लाख डॉलर की कार्ति चिदंबरम की मांग को दंपति ने कबूल कर ली थी.

इंद्राणी ने 17 फरवरी, 2018 को अपना बयान में दर्ज कराया था, जो अब अदालत के दस्तावेजों का हिस्सा है. इसके अनुसार कार्ति ने उनसे (मुखर्जी) 1 मिलियन डॉलर की रिश्वत मांगी थी, जब वे दिल्ली के हयात होटल में मिले थे. उन्होंने एक योजना बनाई जिसके अनुसार मुखर्जी कार्ति की कंपनी एडवांटेज स्ट्रेटेजिक कंसल्टिंग प्राइवेट लिमिटेड (एएससीपीएल) में शामिल हुए. कथित मुआवजे के रूप में उस समय  ASCPL और उससे जुड़ी कंपनियों ने INX मीडिया पर $ 700,000 (रु. 3.10 करोड़) के लिए चार चालान बनाए और उनकी प्रतिपूर्ति की गई. जल्द ही एफआईपीबी FIPB ने अनियमितताओं को ठीक करने के लिए अपनी मंजूरी दे दी.

इसके अलावा इंद्राणी और पीटर ने CBI और ED के सामने दावा किया कि जब 2006 में नॉर्थ ब्‍लॉक में उनकी चिदंबरम (तत्‍कालीन वित्‍तमंत्री) से मुलाकात हुई तो उन्‍होंने दोनों से कहा कि वे उनके बेटे- कार्ति से मिलें और उसकी कारोबार में मदद करें. चिदंबरम के खिलाफ CBI और ED की जांच में इंद्राणी मुखर्जी का बयान बड़ा अहम सबूत है.

 

Back to top button