उत्तर प्रदेश

थाने गेट पर बैठी दिखी परिवार की सताई बुजुर्ग, फिर इंस्पेक्टर ने जो किया वो काबिल-ए-तारीफ

लखनऊ में पुलिस का मानवीय और संवेदनशील चेहरा तब देखने को मिला जब रात थाने गेट के सामने एक बुर्जुग महिला को देखते ही इंस्पेक्टर चिनहट सचिन कुमार सिंह का दिल पसीज गया. उन्होने जैसे ही बुजुर्ग महिला को देखा वो खुद को रोक नहीं पाए और मां समान वृद्ध महिला के पास पहुंच गए . उनके साथ वहीं जमीन पर बैठकर बुजुर्ग महिला का दर्द साझा करने लगे . उन्होने काफी देर तक  मां समान बुजुर्ग महिला से बात की और जाना कि आखिर  वो क्यूं वो परेशान है  और और देर रात यहां क्या कर रही हैं. वृद्ध  महिला को इंस्पेक्टर ने जैसे ही ये पूछा उसकी आंखों में आंसू फूट पड़े. और रोते –रोते बुजुर्ग महिला ने इंस्पेक्टर को अपनी आप बीती सुनाई.

थाने गेट के सामने बैठी बुजुर्ग से इंस्पेक्टर की बातचीत ऐसी थी जैसे एक मां की अपने बेटे से. इंस्पेक्टर ने कहा कि मैं आपके बेटे जैसा हूं किसी भी प्रकार की  दुख ,परेशानी हो तो मैं आपसे साथ हमेशा खड़ा हूं ये सुनकर बुजुर्ग महिला के आंसू निकल पड़े.  और वहां आस-पास खड़े सिपाही और दारोगा भी इंस्पेक्टर का मातृव्व प्रेम देखकर इंस्पेक्टर की तारीफ करते नहीं थक रहे है. इंस्पेक्टर ने जिस तरह अपना कर्तव्य निभाया है ये पुलिस महकमे के लिए आदर्श है और समाज के लिए सबक भी. जो अपने बूढे मांता-पिता को उम्र के आखिरी पड़ाव में घर ने निकाल देते हैं .

अक्सर जहां पुलिसकर्मी अपने कारनामों से पुलिस की फजीहत कराते हैं, खाकी को बदमान करवाते हैं.  वहीं इंस्पेक्टर चिनहट ने  अपनी कार्यशैली से पुलिसकर्मियों के लिए एक मिसाल पेश की है. और पुलिसकर्मियों को उनकी जिम्मेदारी का  एहसास दिलाया है कि वो जनता की सेवा के लिए हर वक्त मौजूद रहें जो कि उनका कर्तव्य है. साथ ही समाज को आईना दिखाने का काम भी इंस्पेक्टर द्वारा किया गया है.

वृद्ध महिला की सारी बात सुनने के बाद इंस्पेक्टर चिनहट सचिन कुमार सिंह ने बुजुर्ग महिला को पूरे सम्मान के साथ उसे घर पहुंचाया और वहां पहुंचकर परिवार वालों को सख्त हिदायत देते हुए डांट लगाई कि अगर आप बुजुर्ग महिला को इस तरह घर से बाहर निकालते हैं तो सही नही होगा इस तरह के कुकृत्य के लिए माफ नहीं किया जाएगा. पुलिस की ऐसी छबि जहां पुलिस महकमें की शान बढ़ाती है वहीं उनपुलिकर्मियों का मार्गदर्शन भी करती है जो आय दिन पुलिस की छबि धूमिल करने में कतई परहेज नहीं करते हैं. इंस्पेक्टर चिनहट द्वारा किए गए इस कार्य को हर कोई सलाम करता है और उसकी जमकर प्रशंसा भी हो रही है.

Back to top button