कालेधन के खिलाफ बड़ी कामयाबी, 61 करोड़ के खजाने का खुलासा

कालाधन

नईं दिल्ली। कालेधन के खिलाफ आयकर विभाग को बड़ी कामयाबी हाथ लगी है। इनकम टैक्स अधिकारियों ने दिल्ली में 61 करोड़ के खजाने का खुलासा किया है। ये खजाना दिल्ली के यूएंडआईं वाल्ट्स लिमिटेड के लॉकर में था। बताया जा रहा है कि ये काला धन किसी गुटखा कारोबारी और बिल्डर का है। गुप्त सूचना पर आयकर विभाग ने निजी लॉकर कंपनी पर छापा मारा और उसके बोल्ट से करीब साढ़े दस करोड़ कैश और साढ़े नौ करोड़ के सोने और हीरे के गहने बरामद किए हैं। आयकर विभाग के सूत्रों के हवाले से ये खबर आ रही है कि वंपनी के बोल्ट से अब तक कुल 61 करोड़ रुपये बरामद हो चुके हैं।

Advertisement

आप जानकर हैरान रह जाएंगे कि ना तो ये किसी धन वुबेर का खजाना है और ना ही किसी शरीफ और ईंमानदार शख्स की कमाईं है। ये खजाना गुटखा व्यापारी की 61 करोड़ की संपत्ति सीज कालेधन के खिलाफ बड़ी कामयाबी दरअसल काली कमाईं का है जिसे प्राइवेट लॉकर में छिपाकर रखा गया था। इनकम टैक्स सूत्रों के मुताबिक एक गुटखा करारोबारी और बिल्डर ने अपनी काली कमाईं दिल्ली में नामी कंपनी यूएंडआईं वाल्ट्स लिमिटेड के लॉकर में छिपाकर रखी थी।

advt

 

लॉकर से करीब 10.50 करोड़ वैश और 9.50 करोड़ के सोने व हीरे के गहने बरामद

इनकम टैक्स अधिकारियों ने जब इस वंपनी पर छापा मारा तो लॉकर से साढ़े दस करोड़ कैश और करीब साढ़े नौ करोड़ के सोने और हीरे के गहने जब्त किए गए। इसकी कुल कीमत 20 करोड़ रुपये से ज्यादा बताईं जा रही है। जब आयकर विभाग अधिकारियों ने लॉकर को खोला तो उनकी आंखें फटी की फटी रह गईं क्योंकि वहां इतना बड़ा खजाना था जिसकी उम्मीद किसी को नहीं थी। सूत्रों के मुताबिक इनकम टैक्स अधिकारियों को पूरे लॉकर को खंगालने और हिसाब-किताब लगाने में करीब दो से तीन दिन लग गए। बताया जा रहा है कि कुल मिलाकर 61 करोड़ की काली कमाईं का खुलासा हुआ है।

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट अब इस काले खजाने के कुबेर तक पहुंचने की तैयारी कर रही है। फिलहाल कंपनी को सील कर दिया गया है। 8 नवंबर 2016 को 500 और 1000 रुपयों की नोटबंदी के बाद कालेधन के लिए कईं जगह छापेमारी की गईं, करोड़ों रुपये जब्त किए गए लेकिन साल 2018 में यह पहली छापेमारी है, जिसमें इतनी बड़ी रकम हाथ लगी है।