Top News
अगर आप भी जाने-अनजाने कर रही ये काम तो हो…सपने में शारीरिक संबंध बनाने का क्या होता मतलब, जरूर…CAA पर तुरंत रोक से SC का इनकार, केंद्र को…नीलाम होगा भगोड़े नीरव मोदी का खजाना, ED बेचेगा पेंटिंग्स,…महाआलसी होते हैं ये लोग, मेहनत की तो बात छोड़िए,…रोहित के लिए सरहद पार बोली गई जो बात, वो…अमित शाह का जवाब देखकर सोच रही होंगी अरुंधति रॉय-…‘तानाजी’ के चुनावी वीडियो में मोदी को दिखाया ‘शिवाजी’, पल्ला…JNU प्रशासन ने RTI जवाब में किया कबूल- FIR में…VIDEO : शोएब अख्तर ने किया बड़ा ऐलान, ये खिलाड़ी…केजरीवाल के स्पेशल-6 : कार्यकर्ता का बलात्कार..साली का शोषण..बीवी पर…बीजेपी IT सेल हेड को नोटिस भेजने पर बोलीं बॉलीवुड…मोदीराज : देश में 7.5 फीसदी पहुंची बेरोजगारी दर, 60%…पाकिस्तान के HULK को दुल्हनिया की तलाश, कुचली ना जाए…Delhi Election 2020 : दिल्ली से जो आए ताजा आंकड़े,…मलंग मेकर्स धीरे-धीरे खोल रहे फिल्म की कहानी, क्या आपको…#DontCryBagga हैशटैग चलाने वालों से अब पूछे बग्गा- हाउ इज…विराट सेना में हुई संजू सैमसन की इंट्री, चोटिल शिखर…PK ने महीनों सजाई बंगाल की जो बिसात, शाह ने…कभी दान नहीं करें ये 4 चीजें, वरना लक्ष्मी जी…22 जनवरी राशिफल: आज का दिन इन राशियों के…अमित शाह बोले- विपक्ष करते रहें विरोध, किसी भी कीमत…दूल्हे का बाप दुल्हन की मां को लेकर भागा, फरवरी…अब नए अवतार में नज़र आयेंगे मास्टर ब्लास्टर, इस मैच…हिना खान के सामने लड़े सिद्धार्थ-असीम, इस बवाल के खिलाफ…सरकारी नौकरी : SBI में हजारों पदों पर हो रही…लखनऊ : CAA के खिलाफ प्रदर्शन करने पर शायर मुनव्वर…Mi 10 Pro की लाइव तस्वीरें हुई लीक, इस स्मार्टफ़ोन…गब्बर चोट की वजह से भारतीय टीम से हुए बाहर,…लड़की ने अपनी शादी में मेहमानों से मांगी एंट्री फीस,…15 साल की हिन्दू लड़की को अगवा कर तीसरी बीवी…रेशमा से लव-मैरिज किया था अयाज, फिर खो दिया उसी…‘विराट का चमचा’ बोलने वाले ट्रोल को पूर्व क्रिकेटर का…‘टुकड़े-टुकड़े गैंग’ पर RTI के जवाब में बोली सरकार- हमारे…VIDEO: NRC विरोध में भाषण देते RJD सांसद की खिसकी…Video: स्कूल जाती बच्चियों से करता अश्लील हरकत, ‘मम्मी गैंग’…Video: फिल्म एक्टर ने बर्थडे केक पर चलाई तलवार, अब…CAA Protest : लखनऊ के धरनास्थल पर पहुंचीं अखिलेश यादव…सारा अली की इस CUTE अदा पर पिघल गए सलमान,…शादी के 1 साल में ही इस एक्ट्रेस ने मांगा…यूं ही नहीं शिगूफे छोड़ रहे संजय राउत, इनमें तो…जो फैसला लिए हैं आंध्र के सीएम, वो साबित करता…विवाहिता का बना दोस्त, धोखे से बुलाया होटल, बच्चों को…इस लड़की को टैटू बनवाने का फितूर, लेकिन जब आंखों…3 रियर कैमरे के साथ आ रहा LG का बजट…जडेजा के जादू के लिए कोहली बड़ा रिस्क उठाने को…आसान नहीं है नड्डा की राह, शाह छोड़ गए हैं…‘परीक्षा पे चर्चा’ पर जो सवाल किए प्रकाश राज, क्या…ED ने की NRI शराब कारोबारी की गिरफ्तारी, गांधी परिवार…CAA के विरोध से सरकार को कोई फर्क नहीं, इस…

इकोनॉमी पर आई एक और बुरी खबर, सरकार है कि ‘मंदी’ मानने को तैयार नहीं !

सुस्‍ती के दौर से गुजर रही भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था को एक और झटका लगा है। दरअसल, देश का कन्ज्यूमर कॉन्फिडेंस इंडेक्स (CCI) 5 साल के निचले स्‍तर पर पहुंच गया है। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया की सर्वे रिपोर्ट के मुताबिक नवंबर महीने में CCI गिरकर 85.7 अंक पर पहुंच गया है। यह 2014 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सत्ता में आने के बाद सबसे निचला स्तर है। बता दें कि बीते सितंबर महीने में कन्ज्यूमर कॉन्फिडेंस इंडेक्स 89.4 पर था। इस लिहाज से सिर्फ दो महीने में 3.7 अंक की गिरावट है।

देश में आर्थिक मंदी को दूर करने के लिए सरकार लगातार कोशिशें कर रही है। इसी के तहत वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने शनिवार को इनकम टैक्स रेट में कटौती के संकेत दिए हैं। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शनिवार को एक कार्यक्रम में कहा कि अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए इनकम टैक्स रेट को ज्यादा तर्कसंगत बनाने समेत अन्य उपायों पर विचार किया जा रहा है।

जब उनसे पूछा गया कि क्या इनकम टैक्स रेट में राहत दी जाएगी? जवाब में उन्होंने कहा कि इनकम टैक्स रेट को ज्यादा तर्कसंगत बनाने पर विचार किया जा रहा है। कॉर्पोरेट टैक्स में कटौती के बाद से इसकी मांग और तेज हो गई है। वित्त मंत्री ने कहा कि इनकम टैक्स रेट में राहत विभिन्न उपायों में से एक है, जिसके बारे में सरकार विचार कर रही है। टैक्स में कटौती की मांग इसलिए महत्वपूर्ण है क्योंकि लोगों की खरीदने की शक्ति बढ़ सके और मांग में तेजी आए।

टैक्स सिस्टम और आसान बनाया जाएगा- वित्त मंत्री

वित्त मंत्री ने कहा कि सरकारी बैंकों को निर्देश दिया गया है कि वे सावधानी के साथ समझौता नहीं करें, लेकिन मांग में तेजी लाने की कोशिश की जाए। मांग में तेजी लाने के लिए दूर-दराज के इलाकों में पिछले दो महीने में करीब पांच लाख करोड़ रुपये वितरित किए गए हैं। भारत की अर्थव्यवस्था में घरेलू मांग का योगदान करीब 60 फीसदी है। वित्त मंत्री ने आश्वासन दिया कि टैक्सपेयर्स को परेशान नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि सरकार का इरादा टैक्स सिस्टम और ज्यादा आसान बनाना है। वह विभिन्न प्रकार की छूटों को भी हटाना चाहती हैं। उन्होंने कॉर्पोरेट टैक्स का उदाहरण देते हुए कहा कि अब यह टैक्स ज्यादा आसान और छूटों से मुक्त व्यवस्था की ओर बढ़ रहे हैं।

देश की इकोनॉमी को लेकर लोगों का भरोसा कम हुआ

कन्ज्यूमर कॉन्फिडेंस इंडेक्स में गिरावट का मतलब ये है कि देश की इकोनॉमी को लेकर लोगों का भरोसा कम हुआ है और ग्राहक खरीदारी नहीं कर रहे हैं। भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था के लिए यह चिंता की बात है। कन्ज्यूमर कॉन्फिडेंस इंडेक्स जितना मजबूत होता है, अर्थव्यवस्था के लिए वह उतनी ही अनुकूल स्थिति मानी जाती है। इंडेक्‍स में मजबूती का मतलब ये होता है कि ग्राहक बाजार और अर्थव्यवस्था को लेकर आशावादी हैं। इस इंडेक्‍स में मजबूती तभी मिलती है, जब ग्राहक सर्विस और गुड्स की जमकर खरीदारी करते हैं। जाहिर सी बात है, इससे अर्थव्यवस्था को भी रफ्तार मिलती है। आरबीआई ने यह सर्वे रिपोर्ट देश के 13 बड़े शहरों में कुल 5,334 घरों से जुटाए गए आंकड़े के आधार पर तैयार की है। ये 13 शहर- अहमदाबाद, बेंगलुरु, भोपाल, चेन्‍नई, दिल्‍ली, गुवाहाटी, हैदराबाद, जयपुर, कोलकाता, लखनऊ, मुंबई, पटना और त्रिवेंद्रपुरम हैं।

6 साल के निचले स्‍तर पर GDP
बता दें कि चालू वित्त वर्ष (2019-20) की दूसरी तिमाही में भारत की विकास दर यानी जीडीपी ग्रोथ 6 साल के निचले स्‍तर पर आ गई है। अब जीडीपी ग्रोथ का आंकड़ा 4.5 फीसदी पहुंच गया है। चालू वित्त वर्ष (2019-20) की पहली तिमाही में जीडीपी ग्रोथ की दर 5 फीसदी पर थी। इस लिहाज से सिर्फ 3 महीने के भीतर जीडीपी की दर में 0.5% की गिरावट आई है। वहीं लगातार छठी तिमाही में जीडीपी ग्रोथ के आंकड़ों में गिरावट आई है। वित्त वर्ष 2019 की पहली तिमाही में ग्रोथ रेट 8%, दूसरी तिमाही में 7 फीसदी, तीसरी तिमाही में 6.6 फीसदी और चौथी तिमाही में 5.8% पर थी। इसके अलावा वित्त वर्ष 2020 की पहली तिमाही में जीडीपी गिरकर 5 फीसदी पर आ गई।

Share this post

scroll to top