पूर्व पाक गेंदबाज ने मैच पहले ही मान ली टीम की हार, इस बयान से उठे ‘सवाल’

0
40

विश्वकप क्रिकेट का मंच और चिर प्रतिद्वंद्वी भारत-पाकिस्तान आमने-सामने। क्रिकेट को जुनून की हद तक चाहने वाले दोनों देशों के करोड़ों क्रिकेट प्रशंसकों को जिस लम्हे का इंतज़ार है, उसमें बस कुछ घंटे बचे हैं। रविवार को मैनचेस्टर के ओल्ड ट्रेफोर्ड मैदान में दोनों टीमों के बीच कड़ी टक्कर की पटकथा तैयार हो गई है। दोनों ही टीमों के खिलाड़ी मैच में जान झोंक देंगे, इसमें शायद ही किसी को शक हो।  भारत और पाकिस्तान के हर मैच में हार-जीत का पिछला रिकॉर्ड और दोनों टीमों के खिलाड़ियों की क्षमता का अंतर पीछे छूट जाता है। खिलाड़ियों का यह जज्बा हालांकि हर मैच में देखा गया है लेकिन विश्वकप मुकाबलों की बात फिर भी जुदा है। मानों आख़िरी मैच मानकर खिलाड़ी मैदान में उतरते हैं।

इससे पहले विश्व कप जैसे बड़े इवेंट में इन दोनों टीमों के बीच 6 बार मुकाबला हुआ है और भारत ने सभी मुकाबले जीते हैं। क्या ODI क्रिकेट के सबसे महान गेंदबाज वसीम अकरम मैच से पहले ही पाकिस्तान की हार मान चुके हैं। उनके हालिया बयान से तो शायद ऐसा ही लगता है। उन्होंने भारत-पाक के बीच महामुकाबले से पहले टीम इंडिया का पलड़ा भारी बताया और पाकिस्तान की कमियां भी गिनाई।

बताते चले पाकिस्तान के पूर्व दिग्गज गेंदबाज वसीम अकरम ने पाकिस्तान के कप्तान सरफराज अहमद को भारत के खिलाफ 16 जून के मुकाबले में निडर होकर खेलने की सलाह दी है। उन्होंने कहा कि विराट सेना के पक्ष में 70:30 के अनुपात में यह गेम है। भारत इस मैच में जीत का प्रबल दावेदार है लेकिन पाक भी टीम इंडिया को कड़ी टक्कर देगा। ‘मैच के परिणाम किसके पक्ष में होगा’, इस सवाल पर अकरम ने कहा कि “भुवनेश्वर कुमार और जसप्रीत बुमराह फॉर्म में हैं इसलिए ओवरऑल मैच टीम इंडिया के हक में है।”

आगें उन्होंने कहा इस महामुकाबले में जो टीमें प्रेशर को बेहतर तरीके से हैंडल करेगी वह उस दिन मैच जीतेगी। शिखर धवन के चोटिल होने से भारतीय टीम को थोड़ा धक्का पहुंचा है। उनका रिकॉर्ड पाकिस्तान के खिलाफ बेहतर है और उनके टीम में नहीं होने से भारतीय टीम को लेफ्ट-राइट कॉम्बिनेशन में भी दिक्कत होगी।  वसीम अकरम को जिस बात की सबसे अधिक चिंता सता रही है वह है पाकिस्तान की टीम में पांचवें गेंदबाज की कमी। उन्होंने पाकिस्तानी टीम को भारत से मुकाबले से ठीक पहले यह सुझाव दिया है कि टीम में शादाब खान (स्पिनर) को शामिल करें।

अकरम को है इस बात की चिंता

पाकिस्तान को क्यों नहीं मिली जीत
पाकिस्तान अब तक विश्व कप में भारत को नहीं हरा पाया है, इस सवाल पर अकरम ने कहा कि “ये आंकड़े मीडिया में गुफ्तगू के लिए अच्छे हैं लेकिन खिलाड़ी इसके बारे में बहुत चिंता नहीं करते हैं और मेरा मानना है कि उन्हें इसकी चिंता भी नहीं करनी चाहिए। उन्हें सिर्फ इस बात पर फोकस करना चाहिए कि जो गेम वो खेल रहे हैं उसमें अपना बेस्ट दें। पाकिस्तान आज तक वर्ल्ड कप में भारत को क्यों नहीं हरा पाया है वसीम इसका जवाब नहीं दे पाए और उन्होंने कहा कि मुझे नहीं पता कि पाकिस्तान आज तक क्यों नहीं जीत पाया है।

कड़वाहट भरे रिश्तों के बीच मैच
विश्वकप का यह मुक़ाबला ऐसे मौके पर हो रहा है जब भारत और पाकिस्तान के आपसी रिश्ते बेहद कड़वाहट भरे दौर से गुजर रहे हैं। दोनों देशों के बीच रिश्तों का यह सूरत-ए-हाल अभी भी बना हुआ है। ऐसे में रविवार को जब दोनों देशों की टीमें आमने-सामने होंगी तो मैदान पर खेल रहे खिलाड़ियों के साथ-साथ दोनों देशों के करोड़ों क्रिकेट प्रशंसकों में भी रोमांच और जोश चरम पर होगा। बशर्ते कि बारिश मैच का मजा न किरकिरा कर दे।

भारत ने पाक को भी हराया और विश्वकप भी जीता

2011 में धोनी की अगुवाई में टीम इंडिया ने विश्वकप जीता था। मुंबई आतंकी हमले से भारत-पाक रिश्ते बेहद ख़राब थे और इसी विश्वकप में मोहाली में भारत-पाकिस्तान के बीच सेमीफाइल मुकाबला खेला गया। तत्कालीन भारतीय प्रधानमंत्री डॉ.मनमोहन सिंह और पाकिस्तानी प्रधानमंत्री युसूफ रजा गिलानी भी यह मैच देखने पहुंचे थे। इस मैच में सहवाग, गंभीर और युवराज जैसे दिग्गज बल्लेबाज सस्ते में पवेलियन लौट गए लेकिन सचिन दूसरे छोर पर लगातार टिके रहकर रन बटोर रहे थे। 11 चौकों के साथ 85 रन बनाने वाले सचिन इस मैच में मैन ऑफ द मैच बने।