जरा हट के

पति की गई जान तो शव पर पत्‍नी ने लगाई भगवान से गुहार, फिर जो हुआ वो तो ‘चमत्कार’ !

इस बात से तो हम सब वाकिफ होंगे की हमारे देश की संस्कृति सबसे प्राचीन है और उतनी ही लोकप्रिय भी। साथ ही हमारे देश में स्त्री के लिए एक खास जगह है हालाँकि स्थिति अक्सर बदलती रहती है मगर भारत में शक्ति, बुद्धि तथा धन के लिए देवियों की ही पूजा की जाती है। बताना चाहेंगे की प्राचीन समय से यहाँ महिलाएं अपने पति को ही सबकुछ मानती आयी है जिस वजह से पति-परमेश्वर शब्द प्रचलित है।

 

इन्ही बातों से सम्बंधित एक घटना शेखपुरा इलाके के गाँव में घटी जब एकसाथ पति-पत्नी का एक जनाजा उठा, बता दे की पूरा गांव रो उठा। लोग इस घटना को पति-पत्नी के अटूट रिश्ते का प्रतीक भी बता रहे थे। असल में यहाँ गों में एक महिला के पति की अचनाक तबियत बिगड़ने की वजह से मौत हो जाने के बाद उसका रो-रो कर बुरा हाल हो गया था।

एंबुलेंस में पति के शव के साथ घर वापसी के दौरान वह भगवान से लागातार सिर्फ एक ही बात की रात लागए जा रही थी की अब उसे जीने की लालसा नही रही उसे भी पति के पास ही पहुंचा दे। जानकारी है की शेखपुरा के कुरमुरी गांव के निवासी कृष्णमोहन यादव की अचानक तबीयत बिगड़ गई जिसके बाद उनका पटना में इलाज चल रहा था। स्थिति गंभीर होने पर उन्हें रांची रेफर कर दिया गया जिसके बाद इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई थी।

 

अचानक हुई इस घटना से कृष्णमोहन यादव की पत्नी इतनी ज्यादा आहत हुई की खुद की जान भी देने की जिद करने लगी और इत्तफाक कहिए या भगवान की लीला शव को एंबुलेंस से लेकर लौटते समय जमुई जिले के पास एंबुलेंस का संतुलन बिगड़ गया और पेड़ से जा टकराई और पत्नी की तत्काल मौत हो गई। आपको बता दे की दुर्घटना में एंबुलेंस बुरी तरह चकनाचूर हो गयी और एंबुलेंस में सवार मृतक की पत्नी की मृत्यु हो गयी साथ ही उनके पुत्र शशि भूषण यादव तथा मृतक के भाई दशरथ यादव गंभीर रुप से जख्मी हो गए।

Back to top button