जरा हट के

पति हर रोज भिखारी को दे देता था अपना टिफिन, जब पत्नी को पता चला तो किया कुछ ऐसा, जानकर खिसक जाएगी पैरों तले जमीन

सोशल मीडिया पर आये दिन हमे ना जाने कितने अजीबो गरीब किस्से सुनने को मिलते रहते हैं जिन्हें जानकर कभी कभी तो हम हैरान रह जाते हैं |आज हम आपके लिए एक ऐसा ही बेहद अजीब सा किस्सा लेकर आये है जिसमे आप ये जान सकेंगे की प्यार में अंधा होने वाले लोग किस तरह से अपने पति पत्नी रिश्ते को बर्बाद कर लेते हैं |


ये तो आपने अक्सर ही देखा होगा की घर में अगर बेटा नौकरी करने के लिए डेली ऑफिस जाता है और उसकी शादी नहीं हुई है तो लड़कों की मां उन्हें रोज एक ही सब्जी टिफिन में देने लगती है तो वो लड़का आखिरकार एक न एक दिन अपनी माँ से ये बोल ही देता है कि क्या मां रोज एक ही सब्जी खा खा कर मै उब चूका हूँ. बस बेटे के इतना बोलते ही उसी समय उसे शादी के बाद का ताना देने लगती है और कहती है कि उसे पसंद नहीं ये खाना तो शादी कर ले और बीवी ले आये तो हर दिन उसे उसके पसंद का खाना बना कर देगी |

लेकिन वहीँ शादी के बाद लड़कों का क्या हाल होता है वो तो लड़के शादी हो जाने के बाद ही अच्छेो से समझ सकते हैं क्योंीकि उसके बाद उनके सारे नखरे खत्मा हो जाते हैं और साथ में जिम्मेसदारियां भी बढ़ जाती है जिसके बाद वे नखरा दिखाना बंद कर केवल अपनी बीवियों के ही नखरे उठाने में परेशान रहते है |

अब आप सोच रहे होंगे की हम आपको ये किस्सा क्यों बता रहे है तो बता दे हम आपको ये किस्सा इसीलिए बता रहे हैं क्योंकि हम आपको जो मामला बताने जा रहे हैं वो भी लौकी के सब्जी् से ही संबंधित है और ये मामला यूपी का है जहां श्रावस्ती नाम की एक महिला होती है। जिसका पति आशीष रहता है और वो अपनी पत्नी का बनाया खाना रोज एक भिखारी को दे देता था उसके बाद कुछ ऐसा हुआ कि पत्नी ने भिखारी के टिफिन की सच्चाई पता चली तो उसने भिखारी से शादी कर ली|

आइये अब हम आपको बताते है इस मामले की पूरी सच्चाई जिसे जानकर आप भी अपने दांतों तले ऊँगली दबा लेंगे |बता दे इस मामले में पत्नी का दिया हुआ टिफिन लेकर पति हर रोज मजदूरी पर निकल जाता है।खास बात तो ये हैं कि पत्नी उसे हर रोज टिफिन में लौकी की सब्जीि देती थी लेकिन फिर भी वो कुछ नहीं कहता था और चुचाप उस टिफिन को लेकर चला जाता था लेकिन पत्नी को उसके उपर शक होता है की आखिर वो रोज उसे एक ही सब्जी बना कर देती है फिर भी उसका पति कभी उससे इस बात के लिए शिकायत नहीं करता था | दरअसल पति को रोज 20 दिन से लौकी की सब्जी मिल रही थी लेकिन पति रास्तें में ही ऑफिस जाते समय रास्ते में ही सब्जी वाला डिब्बा एक भिखारी को दे देता था।

ऐसा लगातार 20 दिनों तक चलता रहा फिर एक दिन पत्नीी ने शक होने के कारण उसका पीछा किया और फिर क्या था सच का पता चल गया जिससे उसकी बीवी ने उसे उसी समय धर दबोचा। इससे पहले की आशिष कुछ सफाई देता तब तक भिखारी ने उपर असमान की तरफ देख रोमांटिक अंदाज में अपनी फेसबुक टाइम लाइन से दो चार शायरी कह डाली उसके बाद क्या था आशीष की पत्नीत को उसकी शायरी सुनकर ऐसा लगा कि जैसे कि उसे उसके बचपन का प्यार मिल गया हो जिसे उसने कभी अनजाने में खो दिया था |

बस फिर क्या था आशीष की पत्नी श्रावस्ती् ने उसी समय अपने आशीष को तलाक देकर भिखारी से मंदिर में शादी कर ली और आज के समय में आशीष की पत्नी और वो भिखारी उसी मंदिर के सामने बैठकर भीख मांगते है |इस प्यार की कहानी सच में बेहद अजीब है लेकिन ये कहानी बिल्कुल सच है क्योंकि कहा जाता है ना की इस दुनिया में कुछ भी सम्भव हो सकता है और ये प्रेम कहानी इसी का सबसे अच्छा उदाहरण हैं |

Back to top button