Jio के बाद अब ये है मुकेश अंबानी का नया प्लान, जानिए क्या है खास…

रिलायंस जियो अब अपनी खुद की बिटकॉइन जैसी क्रिप्टोकरेंसी jiocoinमुद्रा लाने की तैयारी कर रही है. मुकेश अंबानी के बड़े बेटे आकाश रिलायंस जियो क्वॉइन प्रोजेक्ट की टीम का नेतृत्व कर रहे हैं. इस ब्लॉकचेन तकनीक पर काम करने के लिये 50 युवा प्रोफेशनलों की टीम बनाई जा रही है. बिटक्वॉइन जैसी क्रिप्टोकरेंसी को लेकर युवाओं में काफी क्रेज है. एक सर्वे के मुताबिक भारत में क्रिप्टोकरेंसी के 6 लाख से ज्यादा सक्रिय ट्रेडर्स हैं . वहीं 25 लाख लोगों ने देशभर की 9 क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंजों में खुद को पंजीकृत करा रखा है. ऐसे में अब रिलायंस जियो क्वॉइन काफी चौंकाने वाला है.

अब क्या करने जा रहे हैं अंबानी…

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक जियो अपनी खुद की क्रिप्टो करेंसी बनाने की प्लानिंग में है. इसके लिए ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी पर काम किया जा रहा है. इस प्रोजेक्ट को पूरी यंग मेम्बर्स की टीम आगे बढ़ाएगी. इसमें टीम के मेम्बर्स की एवरेज ऐज 25 साल होगी.

क्या है ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी…

पुराने समय में जिस तरह हिसाब-किताब बहीखाता में किया जाता था, उसी तरह ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी के जरिए हिसाब रखा जाता है. यह डिजिटल लेजर है. इसमें डाटा फिजिकल सर्वर में स्टोर नहीं होता बल्कि क्लाउड में सेव होता है. क्लाउड में डाटा सेव होने से यहां अनलिमिटेड डाटा स्टोर किया जा सकता है. इसके साथ ही इस डाटा को रियल टाइम में एक्सेस किया जा सकता है. इसके जरिए फाइनेंशियल ट्रांजेक्शन भी होते हैं. ब्लॉकचेन में कस्टमर्स सीधे फाइनेंशियल ट्रांजेक्शन कर सकते हैं. उन्हें किसी भी थर्ड ओर्गनाइजेशन की जरूरत नहीं है.

जैसे दूसरे ट्रांजेक्शन में बैंक बीच में होता है लेकिन इसमें बैंक की कोई जरूरत नहीं. हर ट्रांजेक्शन लेजर में रिकॉर्ड होता है. नेटवर्क पार्टिसिपेंट्स इसका वेरिफिकेशन करते हैं. इस टेक्नोलॉजी की सबसे ज्यादा पॉपुलर होने वाली करेंसी क्रिप्टो करेंसी है. वहीं रिलायंस जियो अपनी खुद की करेंसी बनाने की प्लानिंग में है, इसका नाम जियो कॉइन होगा.

सरकार ने किया था आगाह

दूसरी तरफ केंद्र सरकार ने भी निवेशकों को बिटकॉइन (Bitcoin) जैसी क्रिप्टो करेंसी के प्रति आगाह किया था. पिछले दिनों राज्यसभा में प्रश्न काल के दौरान वित्त मंत्री अरुण जेटली ने द्रमुक सदस्य कनिमोझी के एक पूरक प्रश्न के उत्तर में बताया था कि वित्त मंत्रालय के आर्थिक कार्य विभाग के सचिव की अध्यक्षता में बनी विशेषज्ञ समिति विशिष्ट कार्रवाइयों को सुझाने के लिए क्रिप्टो करेंसी से संबंधित सभी मुद्दों पर विचार-विमर्श कर रही है.