धर्म

किन्नरों को भगवान राम ने दिया था ये आर्शीवाद, इसीलिए पूरी होती है उनकी बोली हर बात

किन्नरों के बारे में ज्यादा जानकारी किसी को नहीं होती है, लेकिन उनसे जुड़ी हर छोटी-बड़ी बात जानने के लिए हर कोई उत्सुक रहता है। घर में कोई शुभ कार्य हो, शादी-ब्याह हो या कोई भी शुभ कार्य किन्नर उस जगह पर पहुंचे ही जाते हैं और नेग मांगते  हैं। बता दें कि किन्नरों को हर कोई खुश करके ही वापस भेजना चाहता है और उनसे अच्छे आर्शीवाद की कामना करता है।

ऐसा माना जाता है कि उनके मुंह से निकली हुई बात हमेशा सच साबित होती है। इसलिए इनको कोई भी नाराज करके नहीं भेजना चाहता है। अब आपके भी मन मे ंसवाल आया होगा कि आखिर इनको ऐसी शक्ति कहा से मिला है और किसने दी? ऐसे कई सवाल हैं जो अक्सर हमारे मन में उठते हैं। इन सभी सवालों के जवाब जानने से पहले आइए जानते हैं कि क्या त्रेतायुग में भी भगवान राम के समय में इस पृथ्वी पर मौजूद थे किन्नर?

भगवान राम से मिला था आशीर्वाद

ऐसी मान्यता है कि जब श्रीराम को 14 सालों का वनवास दिया गया था और वो अयोध्या को छोड़कर जा रहे थे तब उनके पीछे-पीछे उनकी प्रजा और किन्नर समुदाय के लोग भी आने लगे ते। तब श्रीराम ने सभी से प्रार्थना की थी सभी वापस लौट जाएं। लेकिन जब 14 साल बाद भगवान राम वापस लौंटे तो उन्होंने देखा कि हर कोई तो वापस चला गया था, लेकिन 14 सालों तक किन्नर वहीं पर खड़े होकर उनका इंतजार करते रहे। तब उनकी भक्ति से प्रसन्न होकर श्रीराम ने उनरो आर्शीवाद दिया था कि उनका आर्शीवाद हमेशा फलित होगा।

न लें कभी बद्दुआ

बता दें कि ऐसा कहा जाता है कि किन्नरों को कभी नाराज करके नहीं भेजना चाहिए। ना ही उनसे कभी बद्दुआ लेनी चाहिए। शास्त्रों के अनुसार यदि कोई भी व्यक्ति किन्नरों का अपमान करता है या फिर उनका मजाक उड़ाता है तो वो अगले जन्म में किन्नर बनकर ही पैदा होता है। ऐसा कहा जाता है कि अगर आपके घर या दुकान में किन्नर आए तों उनसे हमेशा दान दें और उनसे कहें कि फिर आइएगा।

इन चीजों का करें दान

बता दें कि इसी के साथ किन्नरों को दान करने से आप कई तरह की समस्याओं से भी निजात पा सकते हैं। ऐसा कहा जाता है कि यदि आपका शादी शुदा रिश्ता ठीक नहीं चल रहा हो तो उसके लिए आप बुधवार के दिन किन्नरों को सुहाग का समान दान कर सकते हैं। इसके साथ ही उनको हरें रंग के वस्त्र और मेंहदी का दान करना भी शुभ माना जाता है।

इस उपाय से बढ़ता है धन

वहीं किन्नरों को बुधवार के दिन दान देना विशेष लाभकारी माना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि यदि आपके घर में धन की कमी है और लक्ष्मी माता रूठी हुई हैं तो आपको बुधवार के दिन किन्नर के हाथ में सुपारी के ऊपर एक सिक्का रखकर दान दें। ऐसा करने से घर में आने वाली धन से संबंधित परेशानियों का निवारण हो जाएगा।

Back to top button