पीरियड्स की डेट से हैं परेशान तो ये घरेलू उपाय करेगा जादू, चुटकी में सॉल्व होगी प्रॉब्लम

0
90

पीरियड्स सही समय पर न आना कई लड़कियों में एक आम समस्या है. लेकिन कई महिलाएं इस वजह से बहुत ज्यादा परेशान हो जाती हैं. ध्यान रखिये यह ज़रूरी नहीं कि पीरियड्स हमेशा समय पर ही आये. कई बार पीरियड्स 1-2 दिन आगे पीछे भी हो जाते हैं जो कि बिल्कुल नार्मल है. समय और नियमित रूप से माहवारी का आना महिला की स्वास्थ्य के लिए बहुत अच्छा होता है. पर कुछ महिलाओं को मासिक धर्म की अनियमितता यानी इर्रेगुलर पीरियड्स से भी गुज़रना पड़ता है. यदि आपके पीरियड्स समय से बहुत पहले आ जाते हैं या बहुत लेट हो जाते हैं तो इससे आपके सेहत पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ सकता है. इर्रेगुलर पीरियड्स की समस्या होने पर महिला को पेट में दर्द का भी बहुत ज़्यादा सामना करना पड़ता है और साथ ही गर्भाशय में भी दर्द का अनुभव होता है. अनियमित पीरियड्स को कभी भी अनदेखा नहीं करना चाहिए. अनदेखा करने पर आगे चलकर यह गंभीर समस्या का रूप ले सकती है. बॉम्बे हॉस्पिटल की गायनोकोलॉजिस्ट डॉक्टर नीरजा पौराणिक ने बताया कि किन वजहों से पीरियड्स टाइम पर नहीं आते हैं. उन्होंने 5 मुख्य कारणों का जिक्र किया जिसके बारे में हम आपको बताएंगे.

मानसिक तनाव (Stress)

कई बार बहुत ज्यादा स्ट्रेस लेने से भी पीरियड्स टाइम पर नहीं आते हैं. लगातार स्ट्रेस में रहने से बॉडी में एस्ट्रोजन ओर कॉर्टिसोल नामक हॉर्मोन रिलीज़ होने लगते हैं. यदि बॉडी में इनका लेवल बढ़ेगा तो पीरियड्स समय पर आने में दिक्कत होगी.

PCOS (पोलिसिस्टिक ओवरी सिम्पटम)

PCOS की समस्या होने पर शरीर में मेल हॉर्मोन की मात्रा में बढ़ोत्तरी होती है. यह इनफर्टिलिटी और पीरियड्स मिस होने की समस्या को बढ़ावा देता है. आजकल की बहुत सारी युवा लड़कियों में PCOS की समस्या देखने को मिलती है.

थाइरॉयड (Thyroid)

यदि गले में मौजूद आपका थाइरॉयड ग्लैंड अंडरएक्टिव या ओवरएक्टिव होगा तो बॉडी के हॉर्मोन का बैलेंस बिगड़ जाएगा. आपके पीरियड्स टाइम पर नहीं आते हैं तो इसका एक कारण थाइरॉयड भी हो सकता है.

डायबिटीज (Diabetese)

डायबिटीज की वजह से पीरियड्स मिस होने लगते हैं. यदि आपको डायबिटीज यानी मधुमेह की समस्या है तो ब्लड शुगर लेवल बिगड़ने के कारण हार्मोनल इम्बैलेंस की वजह से पीरियड्स समय पर आने में दिक्कत होगी.

गर्भ निरोधक गोलियां (Birth Control Pills)

महिलाओं को पता होना चाहिए कि बर्थ कंट्रोल पिल्स के बहुत सारे साइड इफेक्ट्स होते हैं. इसके साइड इफेक्ट्स से हार्मोनल इम्बैलेंस होने लगता है जिस वजह से पीरियड्स समय पर आने में दिक्कत होती है. इसलिए इन पिल्स का इस्तेमाल बार-बार नहीं करना चाहिए.

पीरियड्स को नियमित बनाने के घरेलू उपाय

  • पीरियड्स को नियमीत बनाने के लिए कच्चे पपीते का सेवन फायदेमंद होता है. इसमें मौजूद एंटी टी प्रोवोग, आयरन, कैल्शियम और विटामिन ए मौजूद होते हैं, जो पीरियड्स को रेगुलर करने में हमारी मदद करते हैं. जब पीरियड्स का समय नजदीक आये तब कच्चे पपीते को दही से मिलाकर खाएं.
  • नियमित रूप से सौंफ का सेवन भी इर्रेगुलर पीरियड की समस्या को दूर करता है. दो चम्मच सौंफ को एक गिलास पानी में भिगो दें. सुबह उठकर इसे छानकर इसका पानी पियें.
  • इर्रेगुलर पीरियड्स के लिए बादाम और छुहारे को साथ में मिलाकर खाएं. अनियमित पीरियड की समस्या दूर होने में मदद मिलेगी.
  • एलोवेरा से पेट की समस्या दूर हो जाती है. यदि आप नियमित रूप से सुबह उठकर खाली पेट 50 ग्राम एलोवेरा जूस में एक गिलास पानी मिलाकर पियेंगे तो अनियमित पीरियड्स की समस्या दूर हो जायेगी.