सेहत

पुरानी से पुरानी बवासीर को एक दिन में खत्म ये घरेलू नुस्खा, तुरंत मिलेगी राहत

Image result for बवासीर

बवासीर एक ऐसी समस्या है जो किसी जमाने में ज्यादा उम्र के लोगों को होती थी. लेकिन अब तो ये समस्या युवाओं और बच्चों में भी आम होने लगी है. क्या आप जानते हैं कि बवासीर क्यों होती है? और किन आदतों की वजह से पनपती है. तो आइये जानते हैं कि ये समस्या क्यों होती है और किन आदतों की वजह से पनप सकती है.

बवासीर का आयुर्वेदिक उपचार:

# अरीठा यानी रीठा लें। उसके बीज बाहर करें और शेष हिस्से को लोहे की कढ़ाही में डालकर उसे भूनकर पूरी तरह जला दें। जब वह कोयला बन जाए उसे आग से उतार लें।

# उसी के बराबर उसमें पपडिया कत्था मिलाकर बहुत बारीक पीस लें। बवासीर का आयुर्वेदिक उपचार की औषधि तैयार हो गई।

ये है इसके सेवन की विधि:

# औषधि में से प्रतिदिन सुबह-शाम 125 मिलीग्राम यानी लगभग एक रत्ती मक्खन या मलाई के साथ सात दिन लगातार सेवन करना ज़रूरी है।

# इसे लेने से कब्ज़ व खुजली से भी मुक्ति मिल जाती है। दादी कहती थीं कि यदि हर छह महीने पर सात दिन लगातार यह दवा खा ली जाए तो ज़िंदगी में कभी बवासीर नहीं होगा।

# इसका सेवन करने के दौरान सात दिन तक नमक बिल्कुल नहीं खाना चाहिए। उरद, घी, सेम, गरिष्ठ तथा भुने पदार्थों का सेवन कतई न करें।

Back to top button