उत्तर प्रदेश

जेलर पर गिरी मुन्ना बजरंगी की हत्या की गाज, हो गए बर्खास्त

जौनपुर जिले के कुख्यात माफिया मुन्ना बजरंगी की बागपत जेल में हत्या के समय जेलर रहे यूपी सिंह शुक्रवार को बर्खास्त कर दिए गए। प्रमुख सचिव और महानिदेशक उत्तर प्रदेश के कारागार प्रशासन एवं सुधार सेवाएं अरविन्द कुमार के आदेश पर उदय प्रताप सिंह उर्फ यूपी सिंह को नौकरी से मुक्त करते हुए बर्खास्त किया गया है।
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की बैठक में फटकार के बाद गृह विभाग एक्शन में आ गया है। प्रमुख सचिव अरविन्द कुमार ने एक आदेश में बागपत जेल में अराजकता, हत्या ना सम्भाल पाने वाले जेलर यूपी सिंह को बर्खास्त किया है। इसी तरह से मुजफ्फरनगर जेल में स्टिंग मामले में दोषी पाए गए डिप्टी जेलर धीरेंद्र कुमार सिंह को भी बर्खास्त कर दिया गया है।
अरविन्द कुमार ने आदेश पत्र जारी करते हुए कहा है कि यूपी सिंह 09 जुलाई 2018 को निलम्बित किया गया था। इसके बाद जांच अधिकारी नियुक्त करते हुए मामले की जांच कराई गई, जिसमें विभिन्न प्रावधानों के उल्लंघन का यूपी सिंह को दोषी पाया गया। जांच में पाया गया कि यूपी सिंह की उदासीनता के कारण ही जेल में पिस्टल पहुंची जिससे बंदी सुनील राठी ने बंदी प्रेम प्रकाश सिंह उर्फ मुन्ना बजरंगी की गोली मारकर हत्या कर दी।
दूसरे आदेश में डिप्टी जेलर धीरेंद्र कुमार सिंह के बर्खास्तगी का आदेश जारी किया गया है। इस संबंध में उन्होंने बताया है कि एक न्यूज चैनल ने जेल में सुविधा पहुंचाने में डिप्टी जेलर की संलिप्तता बताई थी जिसकी जांच के आदेश दिए गए। जांच में जो बातें सामने आई, उसे धीरेंद्र कुमार से पूछा गया, जो पर्याप्त सबूत नहीं दे सके। उनके खिलाफ प्रचलित अनुशासनिक कार्यवाही निर्णीत की जाती है।
Back to top button