महाराष्ट्र में घमासान : फडणवीस ने सौंपा इस्तीफा, कहा-शिवसेना को सीएम पद देने का वादा नहीं

0
51

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस ने राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मिलकर अपना इस्तीफा सौंप दिया है। इस्तीफा सौंपने के बाद फडणवीस ने दावा किया कि शिवसेना को कभी भी ढाई साल के लिए सीएम पद देने का वादा नहीं किया।

सरकार बनाने का आज (शुक्रवार) आखिरी दिन है। अगर किसी भी पार्टी ने सरकार बनाने की पहल नहीं की तो राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू हो जाएगा। मौजूदा विधानसभा का कार्यकाल 9 नवंबर(शनिवार) को खत्म हो रहा है। शिवसेना के सभी विधायक रंगशारदा होटल में शिफ्ट हो गए हैं। सभी पार्टियों ने राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात कर ली है। अभी तक किसी भी राजनीतिक दल ने सरकार बनाने का दावा पेश नहीं किया है।

बीजेपी की जीत का स्ट्राइक रेट 70 फीसदी-फडणवीस

फडणवीस ने कहा कि हमने बाला साहेब और उद्धव ठाकरे के बारे में कभी गलत बात नहीं कही, मगर हमारे नेता और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में काफी कुछ कहा गया. सरकार ना बनाना जनादेश का अपमान है. खरीद-फरोख्त के झूठे आरोप लगाए गए. उद्धव ठाकरे के करीबी लोग अलग-अलग बयान दे रहे हैं. लोगों ने महागठबंधन को वोट दिया था. हम मोदी जी के नेतृत्व में लोगों के पास गए थे. बीजेपी की जीत का स्ट्राइक रेट 70 फीसदी रहा है.
फडणवीस- सरकार न बना पाने का अफसोस

फडणवीस ने कहा कि इस्तीफे के बाद राज्यपाल ने एक्टिंग सीएम के तौर पर काम करते रहने को कहा है जबतक कोई नई व्यवस्था नहीं हो जाती है. महायुति का सरकार न बनना जनादेश का अपमान है. यह गलत है. जनता पर दोबारा चुनाव थोपना गलत है. जनादेश मिलने पर सरकार न बना पाने का अफसोस है. कुछ लोग जानबूझकर बयान दे रहे हैं जैसे हमने विधायकों को अपने घेरे में रखा है. मैं उन्हें चुनौती देता हूं कि वे साबित करें या फिर माफी मांगें

LIVE :

देवेन्द्र फडणवीस की प्रेस कॉन्फ्रेंस

  • देवन्द्र फडणवीस ने कहा, ‘राज्यपाल से मिलकर मैंने अपना इस्तीफा सौंपा। राज्यपाल ने इसे स्वीकार कर लिया है।
  • हमारे नेता मोदी जी, अमित शाह जी, जेपी नड्डा जी, मंत्रिमंडल के सदस्य, सभी अधिकारी और कर्मचारी जिन्होंने मेरा साथ काम किया और सभी पक्षों के नेता का आभार।
  • इन पांच वर्षों में महाराष्ट की जनता की सेवा करने का मौका मिला।
  • पांच में से चार साल में सूखा पड़ा और एक साल अतिवृष्टि हुई जिसका हमने डटकर सामना किया।
  • चुनाव में जनादेश गठबंधन को मिला।
  • चुनाव में बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बनी।
  • बीजेपी का स्ट्राइक रेट 70 फीसदी रहा।
  • नतीजे आते ही उद्धव को शुक्रिया कहा था।
  • शिवसेना को ढाई साल के लिए मुख्यमंत्री का पद देने का कोई वादा नहीं किया गया था।
  • अमित शाह के साथ चर्चा में शिवसेना के साथ 50-50 फॉर्मूले पर कोई बात नहीं हुई।
  • उद्धव ठाकरे ने पहले सरकार बनाने की बात कही थी।
  • ढाई साल का सीएम फॉर्मूला शिवसेना का बहाना है।
  • बातचीत से विवाद सुलझाया जा सकता था- फडणवीस
  • इस बात का अफसोस की जनादेश मिलने के बाद भी