पिता ने विदेशी गर्लफ्रैंड को अस्वीकारा, युवक ने रच डाली हत्या की खौफनाक साजिश…

लंदन: इंग्लैंड में रह रहे भारतीय मूल के युवक ने अपने ही पिता की हत्या करने के लिए खौफनाक साजिश रची. आरोप है कि युवक अपने पिता की हत्या के लिए ऑनलाइन विस्फोटक खरीदने की कोशिश कर रहा था, वह अपने पिता की कार में विस्फोटक लगाकर उन्हें जान से मारना चाहता था. कोर्ट ने युवक को आठ साल की सजा सुनाई है. हैरान करने वाली बात ये है कि युवक ने पिता को सिर्फ इस वजह से जान से मारना चाहा, क्योंकि पिता ने उसकी पसंद की विदेशी मूल की लड़की से शादी कराने से इनकार कर दिया था.

गर्लफ्रैंड को अस्वीकार करने पर हत्या की रची साजिश

जानकारी के मुताबिक, युवक पिता की हत्या इसलिए करना चाहता था, क्योंकि उसके पिता ने लड़के की विदेशी गर्लफ्रैंड को स्वीकारने से इनकार कर दिया था. आरोपी का नाम गुरतेज सिंह रंधावा है, जिसे पिछले वर्ष मई में गिरफ्तार किया गया था, उसे यूके नेशनल क्राइम एजेंसी के अंडरकवर ऑफिसर ने गिरफ्तार किया था. एनसीए के अनुसार, गुरतेज सिंह ने अपने कार बम को दूसरी डिवाइस के साथ बदला था. दरअसल, रंधावा ने इस कार बम को पहले ही मंगा लिया था, लेकिन जब दूसरा पार्सल उसके पास आने वाला था तो पुलिस को इसकी जानकारी लग गई.

युवक पर दर्ज ये गंभीर अपराध

रंधावा जिसकी उम्र 19 वर्ष है उसने नवंबर 2017 को पुलिस की हिरासत में बर्मिंघम क्राउन कोर्ट में धमाके की कोशिश की थी, कोर्ट ने रंधावा को इस मामले में दोषी पाया था. अपना फैसला सुनाते वक्त कोर्ट के जज जस्टिस चीमा-ग्रुब ने कहा था कि हमे इसपर किसी तरह का शक नहीं है कि तुमने यह अपनी गर्लफ्रैंड के साथ यूनिवर्सिटी में पढ़ने के लिए यह किया है, अपने इच्छा के लिए तुमनेअपने पिता की कार में विस्फोटक लगाने की साजिश की, जिससे उनकी जान को खतरा हो सकता था, यह चौंकाने वाला गंभीर अपराध है.

वर्चुअल करेंसी से खरीदा था विस्फोटक

मामले की सुनवाई के दौरान जज ने कहा कि आरोपी रंधावा ने बम खरीदने के लिए क्रिप्टो करेंसी का इस्तेमाल किया था और इसे अपने घर से दूर डिलिवरी के लिए बुलाया था. अपराधी बेहद शातिर और चालाक है. जिसे कड़ी सजा मिलेगी. दरअसल, जब रंधावा की मां को इस बात का पता चला कि वह किसी लड़के के साथ रिलेशनशिप में है तो रंधावा ने विस्फोटक ऑर्डर किया था.

मिलेगी सख्त सजा- टिम

एनसीए के अधिकारी टिम जॉर्ज का कहना है कि रंधावा ने ऑनलाइन जिस विस्फोटक को मंगाया था, उससे बड़ा धमाका किया जा सकता था, विस्फोट होने से कई लोगों की जान जा सकती थी. हालांकि वह संगठित अपराध या किसी संगठन में शामिल नहीं है, लेकिन उसकी इस हरकत से लोगों की जान को खतरा है. रंधावा जैसे लोग जोकि अवैध रूप से हथियार रखते हैं या विस्फोटक मंगाते हैं उन्हे पकड़ना हमारी शीर्ष वरीयता है, हम पूरी कोशिश करेंगे कि ऐसे लोगों को सख्त से सख्त सजा मिले.