लिव-इन रिलेशनशिप में रहने पर मजे ही मजे, हैरान कर देंगे इसके ये 8 फायदे

0
112


इन दिनों लिव-इन रिलेशनशिप का कल्‍चर काफी तेजी के साथ शहरों में बढ़ने लगा है। यह कोई नया शब्‍द नहीं है बल्‍कि हर नौजवान इसके बारे में बड़ी अच्‍छी तरह से जानता भी है और खुल कर चर्चा भी कर लेता है।

शादी के पहले जब दो प्‍यार करने वाले एक साथ रहना शुरु कर देते हैं, तब उसे लिव-इन रिलेशनशिप का टर्म दे दिया जाता है। हमारे समाज में लिव-इन रिलेशनशिप को ज्‍यादा अच्‍छी नज़र से नहीं देखा जाता है, लेकिन जो लिव-इन में रहते हैं उन्‍हें इससे कोई एतराज़ नहीं है। लिव इन रिलेशनशिप में रहने के जहां फायदे हैं वहीं इसके कुछ नुकसान भी हैं।

कई-कई साल तक लिव-इन में रहने के बाद जिन्‍होंने शादी की है, उनका जीवन आसानी से बीतता है। ऐसा इसलिये क्‍योंकि आप अपने पार्टनर को अच्‍छी तरह से समझ चुके होते हैं और वह भी आपके अंदर अब कोई बदलाव नहीं देखना चाहता। कहने का मतलब है कि लिव-इन में हरने के बाद इंसान अपनी शादी की जिंदगी का फैसला आराम से कर पाता है। ऐसे ही कई और भी फायदे हैं लिव-इन रिलेशनशिप के, जिसके बारे में आपको जानना चाहते हैं।

एक दूसरे से मिलने के ट्रैवेल करना जरुरी नहीं

यब बात उनसे पूछिये जो अभी अभी किसी रिलेशनशिप में पड़े हों कि उन बेचारों को एक दूसरे से मिलने के लिये कितना ज्‍यादा ट्रैवेल करना पड़ता है। लेकिन जब आप अपने बॉयफ्रेंड या गर्लफ्रेंड के फ्लैट में रहना शुरु कर देते हैं, तो आपके पैसे और समय दोनों ही बचते हैं।

आपके पैसे बचते हैं

आपके पैसे बचते हैं

एक साथ रहने पर आप दोंनों के ही पैसे बचने लगते हैं। चाहे वह घर का किराया हो या फिर ट्रैवलिंग का पैसा हो।

ढेर सारा सेक्‍स मिलता है

ढेर सारा सेक्‍स मिलता है

लिव इन का बेस्‍ट फायदा है कि आपको दोनों को सेक्‍स करने के लिये अब तरसना नहीं पड़ता क्‍योंकि अब यह आपको भरपूर तौर पर मिल रहा है।

आपको पता होता है कि आगे चल कर भविष्‍य कैसा होगा

आपको पता होता है कि आगे चल कर भविष्‍य कैसा होगा

जब आप किसी के साथ कमिटिड रिलेशनशिप में रहने लगते हैं, तो उसके साथ घर बसाने के चांस साफ दिखाई देने लगते हैं। आपको पता होता है कि आपकी शादी शुदा जिंदगी कैसी होने वाली है।

 आपके रिश्‍ते में स्थिरता आ जाती है

आपके रिश्‍ते में स्थिरता आ जाती है

जब आप अपने पार्टनर के साथ रहना शुरु कर देते हैं, तब आपका रिश्‍ता दूसरे लेवल पर चला जाता है। आपका रिश्‍ता काफी मजबूत बन जाता है और आप जिम्‍मेदार हो जाते हैं।

 पार्टनर से अलग होने में दिक्‍कत नहीं

पार्टनर से अलग होने में दिक्‍कत नहीं

शादी की तरह यह रिश्‍ता आपको कानूनी तौर पर बांध कर नहीं रखता। इसलिये जब आपको लगे कि आप दोंनो एक दूसरे से खुश नहीं है तो, आप के पास खुले रास्‍ते हमेशा मौजूद हैं। आप बिना किसी कागजी कारवाही के आसानी से अलग हो सकते हैं। आपके ऊपर पारिवारिक और सामाजिक किसी तरह के नियम लागू नहीं होते।

एक दूसरे के साथ ज्‍यादा वक्‍त मिलता है

एक दूसरे के साथ ज्‍यादा वक्‍त मिलता है

जब आप किसी के प्‍यार में गिरते हैं, तब आपको उस इंसान के साथ ढेर सारा समय बिताने का मन करने लगता है। ऐसे में लिव इन में रह कर आपको उस इंसान के साथ रहने का ढेर सारा समय मिलता है।

 आप जिम्‍मेदार हो जाते हैं

आप जिम्‍मेदार हो जाते हैं

लाइफ में जब अच्‍छे बुरे का एक्‍सपीरियंस होता है, तब इंसान अपने आप ही जिम्‍मेदार हो जाता है। लिव इन में भी कुछ चीजें काम करती हैं और कुछ नहीं करती हैं, तो ऐसे में जिम्‍मेदारी का भाव आ ही जाता है।