क्राइम

कुंवारा बनकर दरोगा ने सिपाही से की शादी, एक फोन कॉल से सामने आ गई सच्चाई

पहली पत्नी का फोन आने पर खुला भेद

ये हैरान कर देने वाला मामला यूपी के शामलीसे सामने आया है. जहाँ यूपी पुलिस में तैनात एक दरोगा ने खुद को कुंवारा बताकर एक महिला सिपाही के साथ धोखे से शादी रचाई। जब इस बात का खुलासा हुआ तो महिला सिपाही ने दरोगा के खिलाफ केस दर्ज करा दिया। पीड़िता ने दरोगा के खिलाफ धोखे से शादी करने और यौन शोषण किये जाने का गंभीर आरोप लगाते उसने थाने में केस दर्ज कराया है। इस मामले में तीन महीने पहले दरोगा को निलंबित किया गया था जो हाल ही में फिर से बहाल हुआ है। अब पुलिस इस मामले में कोर्ट के आदेश पर दर्ज हुए मुकदमे की जांच पड़ताल के बाद कार्रवाई करने की बात कह रही है।

मंदिर में की थी शादी

जानकारी के मुताबिक बताते चले यूपी के बिजनौर जिले की रहने वाली महिला सिपाही की ओर से दर्ज कराए गए मुदकमे में बताया गया है की कि लविंक त्यागी नाम के दरोगा ने अपनी सहारनपुर पोस्टिंग के दौरान खुद को कुंवारा बताकर उससे 2015 जुलाई में मंदिर में शादी रचाई थी। शादी के बाद जब वह गर्भवती हुई तो आरोपी दरोगा ने उस पर गर्भपात कराने का दबाव बनाया, लेकिन वह गर्भपात कराने के लिए तैयार नहीं हुई। बाद में जब उसकी डिलीवरी हुई तो उसे बताया गया कि उसे मृत बच्चा पैदा हुआ था।

आरोपी दरोगा दे रहा है धमकी

खबरों की मने तो पीड़िता महिला सिपाही ने आगे जानकारी देते हुए कहा की एक दिन आरोपी का फोन घर पर रह गया, फोन पर एक महिला की कॉल आई और उसने खुद को दरोगा की पत्नी बताया ये सिनकर मेरे होश उड़ गए तब पता चला कि दरोगा ने उसके साथ धोखाधड़ी कर शादी की। पहली पत्नी से दरोगा के दो बच्चे बताए गए हैं। पीड़िता का कहना है कि इस दौरान वह दोबारा गर्भवती हुई तो दरोगा के बदले व्यवहार को देखकर वह मातृत्व अवकाश लेकर अपने मायके चली गई। वर्ष 2017 में उसने एक बच्चे को जन्म दिया।

दरोगा दे रहा जान से मार देने की धमकी 

वही इस दौरान महिला सिपाही की पोस्टिंग शामली जनपद में हो गई। पीड़िता ने आरोप लगते हुए कहा की अब दरोगा खुद और अन्य लोगों से लगातार फोन कराकर उसे व उसके बच्चे को जान से मारने की धमकी दे रहा है। इस पूरे मामले की जांच पूर्व में एसपी शामली ने सीओ कैराना को सौंपी थी। जांच में दरोगा पर लगे आरोप सही पाए जाने पर उसे 21 अप्रैल 2019 को निलंबित कर दिया गया था, लेकिन तब आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज नहीं किया गया था। पीड़िता का कहना है कि 30 जून को दरोगा ने उसे फिर धमकी दी और कहा कि उसका निलंबन आदेश निरस्त हो गया है और वह अब डयूटी पर है। पीड़िता ने इसकी शिकायत पुलिस से की लेकिन कोई कार्रवाई न होने पर उसने कोर्ट की शरण ली।

क्या कहना है थाना प्रभारी का
कोतवाली प्रभारी सुभाष सिंह राठौर के मुताबिक कोर्ट के आदेश पर महिला सिपाही की तरफ से दरोगा लविंक त्यागी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जांच की जा रही है। जांच के आधार पर अगली कार्रवाई की जाएगी।

Back to top button