अस्पताल में टल्ली नर्स, शराब पीकर सो गई, और फिर हुआ कांड !

उन्हेल के शासकीय प्राथमिक केंद्र में एक नर्स पर शराब पीकर अभद्रता करने का मामला सामने आया है. प्रसूता के परिजनों ने संविदा कर्मचारी स्वास्थ्य कार्यकर्ता अर्चना सोलंकी पर दवाई नहीं देने, अभद्रता करने व शराब के नशे में पैसे मांगने का आरोप लगाया. बीएमओ डॉ. संजीव कुमरावत ने मामले में जांच की बात कही है.

क्या है पूरा मामला


मिली जानकारी अनुसार उन्हेल निवासी विनोद पिता शंभूलाल ने पत्नी पूजा को प्रसूति के लिए भर्ती कराया था. प्रसूति के बाद रात 10 बजे पूजा को कुछ दवाई की जरूरत हुई. इस पर विनोद अस्पताल में उपस्थित नर्स अर्चना सोलंकी को तलाशने लगा तो वह अस्पताल के एक कमरे में सोई हुई थी.

विनोद ने बताया शराब के नशे में होने से वह ठीक से बात तक नहीं कर पा रही थी. विनोद ने मीडिया को सूचना दी, जब मीडियाकर्मी पहुंचे तो वह पलंग से उठी. नशे में होने से वह बात भी नहीं कर पा रही थी.


कैमरे देखते ही वह उठ गई और बार-बार कैमरा बंद करने को कहती रही साथ ही अब कभी शराब नहीं पीने का भी कहा. मीडिया ने मामले की जानकारी बीएमओ डाॅ. कुमरावत व पुलिस को दी. सूत्रों के अनुसार नसे में होने की वजह से अस्पताल में आईं महिलाओं की प्रसूति नर्स की बजाय दाई ने करवाई.

दो सप्ताह पूर्व भी दिया था नोटिस


तत्कालीन बीएमओ डॉ हेमंत रघुवंशी ने नर्स सोलंकी को दो सप्ताह पूर्व भी मरीजों से पैसे मांगने व नशा करने को लेकर नोटिस दिया था. इस नोटिस की प्रतिलिपि उच्चाधिकारियों को भी डाॅ. रघुवंशी ने भेजी थी. उसी समय कोई कार्रवाई हो जाती तो गुरुवार को यह घटना नहीं होती.

बीएमओ ने दर्ज किए बयान


उच्चाधिकारियों के निर्देश पर बीएमओ डॉ. कुमरावत ने शुक्रवार सुबह इस घटना के बारे में जांच की. इसमें विनोद पिता शंभूलाल, नागझिरी निवासी शांतिबाई पति मांगीलाल, तुलसाबाई पति प्रभु, आक्यानजीक निवासी कंकुबाई पति नाथूराम, सफाईकर्मी रवि पिता भेरूलाल गौसर, दाई छोटी बी के बयान दर्ज किए.

बीएमओ ने नर्स अर्चना को भी यहां रुकने को कहा था, लेकिन वह सुबह बीएमओ के आने के पहले ही निकल गई. सीएमएचओ ने अर्चना के बयान भी दर्ज करने को कहा, डॉ. कुमरावत उसे बयान दर्ज कराने के लिए फोन भी लगाते रहे, लेकिन उसने फोन अटेंड ही नहीं किया. ऐसे में जांच अधूरी ही रह गई है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here