‘मोदी जिसके लिए राष्ट्रपिता नहीं, उसे भारतीय कहलाने का हक नहीं..’

0
32

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ‘फादर ऑफ इंडिया’ बताया है. ट्रंप के इस बयान को लेकर अब सियासत तेज हो गई है. मोदी को फादर ऑफ इंडिया याने राष्ट्रपिता कहे जाने पर कांग्रेस ने ऐतराज जताया है. इसी बात पर एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने ट्रंप पर निशाना साधा है. वहीं केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह ने विपक्षी दलों को जवाब देते हुए कहा है कि, ट्रंप के इस बयान पर गर्व होने चाहिए. जिन्हें इसमें परेशानी है वो शायद खुद को भारतीय नहीं मानता.

दरअसल मंगलवार को न्यूयॉर्क में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने न्यूयॉर्क में प्रधानमंत्री मोदी के साथ प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान मोदी की जमकर तारीफ की थी. उन्होंने कहा, अगर मैं पहले के भारत को याद करूं तो वहां पर लोग अक्सर लड़ते रहते थे, लेकिन मोदी ने सभी को एक साथ लाने का काम किया है. उन्होंने सभी को एक पिता की तरह साथ लाने का काम किया है, शायद वो ‘फादर ऑफ इंडिया’ हैं.

ट्रंप के इस बयान पर कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे के बेटे और कर्नाटक सरकार में मंत्री रहे प्रियांक खड़गे ने आपत्ति जताई. प्रियांक ने ट्वीट कर ट्रंप पर तंज कसते हुए कहा, क्या अब अमेरिकी तय करेंगे कि राष्ट्रपिता कौन है? उन्होंने आरोप लगाया कि, इन फासीवादी लोगों ने हमारे लोगों को बौद्धिक रूप से तर्क देकर लूटा है. सोशल मीडिया के प्रोपेगेंडा ने मिलकर आने वाली पीढ़ियों और उनकी सोच को भी बिगाड़ दिया है.

दूसरी ओर ओवैसी ने ट्रंप पर हमला बोला. उन्होंने कहा, डोनाल्‍ड ट्रंप ने पीएम मोदी को फादर ऑफ द नेशन बताया है. ट्रंप अज्ञानी हैं. महात्मा गांधी और पीएम मोदी की तुलना नहीं की जा सकती है. मोदी कभी फादर ऑफ नेशन नहीं हो सकते हैं. लोगों ने महात्मा गांधी की कुर्बानी को देखकर उन्हें राष्ट्रपित की उपाधि दी थी. इस तरह के खिताब दिए नहीं जाते, हासिल किए जाते हैं. पंडित नेहरू और सरदार पटेल ये हिंदुस्तान की सियासत के कद्दावर शख्सियतें थीं, उनको भी कभी फादर ऑफ नेशन नहीं कहा गया.

अब इन सबके जवाब में केन्द्रीय राज्य मंत्री जीतेन्द्र सिंह ने कहा है कि, अगर बाहर से किसी के खुले और निष्पक्ष विचार सामने आते हैं, अमेरिकी राष्ट्रपति ऐसा कहते हैं तो हर भारतीय को, चाहे वह किसी भी राजनीतिक विचारधारा का हो उसे गर्व होना चाहिए. पहली बार अमेरिकी राष्ट्रपति ने किसी भारतीय पीएम के लिए ऐसा कहा है, जिसे इसमें परेशानी है वह शायद खुद को भारतीय नहीं मानता.  ये पूरे देश के लिए सम्मान की बात है. कांग्रेस को अगर आपत्ति है तो वह डोनाल्ड ट्रंप से बात कर लें. भारत के प्रधानमंत्री के लिए सम्मान के शब्द पर उन्हें गर्व नहीं होता तो उन्हें फिर भारतीय कहलाने का अधिकार नहीं.