बोर्ड परीक्षा के रिजल्ट के बाद 7 छात्रों ने उठाया खौफनाक कदम, 3 की मौत

मध्‍य प्रदेश में बोर्ड परीक्षा के नतीजों के बाद 7 छात्रों ने की खुदकुशी की कोशिश, 3 की मौत

भोपाल: मध्य प्रदेश में दसवीं और बारहवीं के नतीजे आने के बाद परीक्षा में फेल होने की वजह से अलग-अलग ज़िलों में 7 बच्चों ने ख़ुदकुशी की कोशिश की जिसमें 3 की मौत हो गई और 4 को नाज़ुक हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया है. राजधानी भोपाल के तलैया इलाके में भी एक छात्रा ने दसवीं में फेल होने पर फांसी लगाकर जान दे दी. घटना की सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंच गई और शव को पोस्टमार्टम के लिए हमीदिया अस्पताल रवाना कर दिया. वहीं छिंदवाड़ा के चांदामेटा में 12वीं की छात्रा ने फांसी लगा ली, गंभीर हालत में उसे इलाज के लिए नागपुर रेफर किया गया है.

जानिए पूरा मामला

वहीं मुख्यमंत्री के गृहजिले सीहोर के अमलाहा में एक छात्रा ने दसवीं में दो विषयों में सप्लीमेंट्री आने पर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. वहीं सीहोर के टिकामोड़ में एक और छात्रा ने खुदकुशी कर ली. दमोही ज़िले में बारहवीं की छात्रा ने ज़हर खा लिया उसे गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया है, वहीं महिदपुर रोड में भी दसवीं के छात्र ने खुदकुशी कर ली. परिजनों के मुताबिकों दो बहनों के बीच इकलौता भाई 4 विषयों में फेल होने की वजह से तनाव में था.

 2013 से 2017 तक 10वीं का रिजल्ट 60 फीसदी तक नहीं पहुंचा

मध्य प्रदेश में पिछले 5 सालों यानी 2013 से 2017 तक 10वीं का रिजल्ट 60 फीसदी तक नहीं पहुंचा हैं. इस बार के रिजल्ट ने यह रिकॉर्ड तोड़ डाले हैं. इस बार 66 फीसदी से ज्यादा छात्र 10वीं में और 68 फीसदी से ज्यादा छात्र 12वीं में पास हुए. पिछले साल 10वीं में आधे स्टूडेंट्स फेल हो गए थे.