ख़बरदेश

कश्मीर में शाह-मोदी का सुपर प्लान, इतनी सेना देख पाकिस्तान हुआ हलकान

क्या जम्मू-कश्मीर में कुछ बड़ा होने वाला है. ये सवाल इसलिए क्योंकि शुक्रवार सुबह खबर आती है कि राज्य में 28 हजार अतिरिक्त सैनिकों की तैनाती हो रही है. इसके बाद दोपहर में अचानक ही पता चलता है कि केंद्र सरकार ने अमरनाथ यात्रा बीच में ही खत्म करने का फैसला ले लिया है. इन दोनों फैसलों को लोग पीएम मोदी और गृह मंत्री अमित शाह के किसी सुपर-प्लान का हिस्सा मान रहे हैं.

समाचार एजेंसी पीटीआई की मानें तो भारत सरकार ने घाटी के मौजूदा हालातों को देखते हुए भारतीय सेना व वायु सेना को हाई अलर्ट पर रहने को कहा है. वहीं 28 हजार अतिरिक्त जवान घाटी में तैनात किये जा रहे हैं. भारी संख्या में जवानों की तैनाती को देखते हुए वायु सेना ने अपने सी-17 विमान को घाटी में तैनात करने की बात कही है.

अतिरिक्त सुरक्षा बलों की तैनाती पर गृह मंत्रालय ने कहा कि जम्मू-कश्मीर में अर्द्धसैन्य बलों की तैनाती आंतरिक सुरक्षा स्थिति के आकलन और प्रशिक्षण की आवश्यकताओं के आधार पर की गई है. साथ ही कहा कि केंद्रीय बलों की तैनाती और वापसी लगातार चलने वाली प्रक्रिया है, सार्वजनिक रूप से इस पर चर्चा नहीं की जा सकती.

लेकिन इस खबर के आते ही राज्य के अलगाववादियों और क्षेत्रीय दलों से लेकर पाकिस्तान तक में खलबली मच गई. पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने भारतीय कार्रवाई पर सवाल उठाया. उन्होंने कहा, “भारत की युद्ध की मनोदशा चिंताजनक है. उन्होंने (भारत) दस हजार और सैनिक कश्मीर में भेजे हैं. वे मानवाधिकारों का उल्लंघन कर रहे हैं. पाकिस्तान इस मुद्दे को पूरी दुनिया के सामने उठाएगा. भारत वार्ता के लिए तैयार नहीं है और न ही किसी और की मध्यस्थता के लिए तैयार है. यह एक विचित्र स्थिति है.”

 

Back to top button