दिल्ली में सबसे बड़ा अग्निकांड, जिन्दा जले 43 लोग, 56 का रेस्क्यू

0
118

अब 56 लोग निकाले गए, जिनमें से ज्यादातर की हालत गंभीर
मृतकों की संख्या और बढ़ने की आशंका

नई दिल्ली । राजधानी दिल्ली में रानी झांसी रोड स्थित फिल्मिस्तान की अनाज मंडी इलाके में एक घर में रविवार सुबह आग लगने की घटना में अब तक कम से कम 35 लोगों की मौत हो गई। ये सभी मृतक पुरुष बताए जा रहे हैं। इन सभी को फायर ब्रिगेड दस्ते ने निकालकर अस्पताल पहुंचाया था। कई लोग अभी अंदर फंसे हुए हैं, जिन्हें फायर ब्रिगेड दस्ते के जवान सुरक्षित निकालने में जुटे हुए हैं। 56 लोगों को निकाल कर विभिन्न अस्पतालों में भेजा गया था, जिनमें से 35 लोगों की मौत की पुष्टि दिल्ली पुलिस ने की है। ज्यादातर मौतें दम घुटने की वजह से हुई हैं।

घटना की जानकारी मिलते ही दमकल की गाड़ियों को मौके पर भेजा गया। फिलहाल 30 दमकल गाडियां मौके पर आग बुझाने में लगी हुई हैं। करीब दो दर्जन एम्बुलेंस के जरिये लोगों को अस्पताल पहुंचाया जा रहा है। जिन लोगों की हालत गंभीर है, उन्हें दिल्ली के चार अस्पतालों में भर्ती कराया गया है, जिनमें सफदरजंग, एलएनजेपी, हिंदूराव और आरएमएल शामिल हैं। सघन बसावट और तंग गलियां होने के कारण बचाव दल को काफी दिक्कत हो रही है। आग लगने की वजह पता नहीं चल पायी है। ताजा सूचना मिलने तक कई लोगों को सुरक्षित बचा लिया है। दिल्ली के चीफ फायर अफसर के मुताबिक अंदर से अब जिन लोगों को निकाला जा रहा है, उनकी हालत अत्यंत गंभीर है क्योंकि आग लगे चार घंटे से अधिक हो चुके हैं। इसलिए हताहत होने वालों की संख्या बढ़ सकती है। यहां पर होजरी पैकिंग और प्लास्टिक की फैक्टरी भी चलती थी, जिसने आग को तेजी से बढ़ाया। फैक्टरी मालिक सदर बाजार इलाके का रहने वाला है, जो फरार है। उसके भाई को दिल्ली पुलिस ने हिरासत में लिया है।

फायर ब्रिगेड के आधिकारिक सूत्रों का कहना है कि इमारत के तीसरे मंजिल पर अभी और लोग भी फंसे हुए हैं, जिन्हें निकालने का क्रम जारी है। आज सुबह आग लगने की वजह शार्ट सर्किट होना बताया जा रहा है। फिलहाल घटनास्थल पर बड़ी संख्या में फायर ब्रिगेड दस्ते के जवान मौजूद हैं और फंसे हुए लोगों को निकालने में लगे हुए हैं। मकान की खिड़कियों से जिस तरह से काला धुआं निकल रहा है, उससे भीषण आग लगने की भयावहता का अंदाजा लगाया जा सकता है।