उत्तर प्रदेश

अखिलेश की टोपी लगाकर जिस सिपाही ने की योगी को बर्खास्त करने की मांग, क्या हुआ उसका ?

शुक्रवार को यूपी के इटावा कचहरी परिसर में उस समय हड़कंप मच गया, जब पीएसी का एक बावर्दी जवान सपा की टोपी लगाकर गले में सरकार को बर्खास्त करने तख्ती लटकाए डीएम कार्यालय के बाहर पहुंच गया. अब इस सिपाही पर सरकारी एक्शन हो गया है. सरकार को बर्खास्त करने वाला सिपाही खुद बर्खास्त हो गया है.

दरअसल योगी सरकार को हटाने की मांग करते वक्त सिपाही मुनेश यादव ने बताया कि वह नोयडा पीएसी बटालियन में तैनात है और इस समय प्रदेश के हालात देखकर उसका दिल बहुत ही पीड़ित है. प्रदेश में भ्रष्टाचार चरम पर है. बच्चियों के साथ दुष्कर्म की घटनाएं लगातार होती जा रही हैं. कानून व्यवस्था चौपट है. प्रदेश के सरकारी तंत्र में लूट मची है.

इसलिए उसने सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए इस सरकार को बर्खास्त करने की मांग की है. मेरे लिए नौकरी से ज्यादा देश बड़ा है. इसलिए देश में हो रहे अन्याय और अत्याचार के खिलाफ लड़ना चाहते हैं. इसलिए इस सरकार को बर्खास्त करने के साथ मुझे भी नौकरी से बर्खास्त कर देना चाहिए.

सिपाही के इन बगावती तेवरों से सब हैरान रह गए. बताया गया है कि सिपाही मुनेश यादव नोएडा पीएसी बटालियन में तैनात है. जब से अखिलेश यादव की सरकार गयी है और BJP सरकार आई है तभी आए यह सिपाही सरकार के विरोध में देखा जाने लगा.

अब पुलिस महानिदेशक ओ.पी.सिंह ने घटना का संज्ञान लिया है और घोर अनुशासनहीनता के आरोप में मुनीश यादव की बर्खास्तगी के आदेश जारी किए हैं. मुनीश यादव के परिवार के सदस्यों ने निवेदन किया कि वह मानसिक रूप से परेशान है इसलिए यह घटना हुई.

Back to top button