Top News
शोहदे ने लड़की से छुड़ा दिया देश, फिर भी करता…VIDEO : फिल्म हैक्ड का पहला गाना ‘अब ना फिर…निर्भया के दोषियों का डेथ वारंट जारी करने वाले जज…Omg! जब 7 डिब्बे जंगल में छोड़कर हरदा पहुंच गई…बिन मां की बेटी को शिकार बनाया कलयुगी बाप, रोज…हनी ट्रैप में फंसाने की धमकी देकर बुजुर्ग से ठगी,…भारत में ‘डेमोक्रेसी’ की ‘ऐसी-तैसी’ पर जो बात महुआ बोलीं,…योगी के महिलाओं पर दिए बयान पर उलेमा नाराज, कहा-…बड़ा सवाल : पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी लड़ेंगे सरपंच का…संघ दफ्तर पर बम फेंकने वाले संघ कार्यकर्ता ने किया…पाकिस्तान जाने से पहले बांग्लादेशी क्रिकेटर्स ने मांगी जो दुआ,…नई दिल्ली में बीजेपी दी इतना ‘हल्का’ उम्मीदवार, अपनी सीट…बेहद बोल्ड हैं ‘संस्कारी’ बहू शाइनी, सोशल मीडिया पर शेयर…विधवा अध्यापिका को छात्र की धमकी, ‘मेरी हो जाओ वरना…अलीगढ़: महिलाओं के धरना प्रदर्शन की रिपोर्टिंग करने गए पत्रकार…बर्खास्त डीएसपी की एक और करतूत का हुआ खुलासा, आतंकियों…भारत-भारत रटते रहते ये पाकिस्तानी क्रिकेटर्स, वजह हैं वीडियो व्यूज…समाजवादी पार्टी में नए यूपी अध्यक्ष पर हो रहा विचार,…दिल्ली का दंगल: केजरीवाल को भारी पड़ रहा शाहीन बाग,…ये ही हैं बाहुबली की जान, इनके लिए कर रहे…नरभक्षी जोड़ा : 30 लोगों की हत्या कर बनाए अचार,…Republic Day Parade 2020 के लिए इन जगहों से ले…गजब की राजनीति : सीट वही..प्रत्याशी भी वही..बस पार्टियों की…‘कहने को वो मेरी मां का भाई है, लेकिन मेरे…VIDEO : आदाब से शुरू हुई TV डिबेट में बिगड़ी…भाजपा विधायक सांगा बोले- नमामि गंगे में हो रहा घोटाला,…CAA पर JDU दोफाड़ : नीतीश के रुख पर जवाबों…1 लड़की और 1 केले ने इस प्लेयर को ऑस्ट्रेलियन…दिशा पटानी के इस फोटोशूट ने मचाया बवाल, लोग बोले-…कन्हैया कुमार ने तुकबंदी से घेरी मोदी सरकार, लोग बोले-…जिस दोस्त को अफसरी छुड़ाकर सांसद बनाए नीतीश कुमार, अब…बिग बॉस: सिद्धार्थ के बवाल पर बोलीं शिल्पा शिंदे- कलर्स…वो चीखती रही-चिल्लाती रही, एक न सुने दरिंदे और झाड़ियों…मुख्यमंत्री के खिलाफ प्रत्याशियों की बाढ़, नई दिल्ली में केजरीवाल…गज़ब ! यहाँ मुस्लिम बच्चे रटते हैं ‘संस्कृत श्लोक’, हिंदू…भ्रष्टाचार में एक साल बाद भी वहीं खड़ा है भारत,…24 जनवरी राशिफल: आज ये 6 राशियां होंगी मालामाल, बाकी…बालियान का बयान, कहा-JNU-जामिया में पश्चिमी यूपी को 10% आरक्षण…बिजी शेड्यूल पर बोले कोहली- जल्द ही मैच खेलने को…महाराष्ट्र : राज ठाकरे ने बेटे अमित को सक्रिय राजनीति…सोशल साइट्स पर दोस्तों फिर प्यार, जब दिल जीतने में…लवर के घर वालो को रोहित का प्यार नहीं हुआ…देवर भाभी के अवैध संबंधों में बाधक बना रहा था…चंडीगढ़ : एक ही परिवार के 3 लोगों की गला…भाईजान के पोज को कॉपी करते दिखें कार्तिक आर्यन, सेट…निर्भया गैंगरेप: गुनाहगारो की क्‍या है आखिरी इच्‍छा? आखिरी बार…नसीरुद्दीन ने अनुपम खेर को कहा ‘जोकर’, VIDEO शेयर कर…निर्भया गैंगरेप: इंदिरा जयसिंह पर भड़कीं कंगना, कहा-ऐसी औरतों की…एटलस साइकिल की मालकिन ने फांसी लगाकर दे दी जान,…ISRO ने अंतरिक्ष मिशन के लिए तैयार किया महिला रोबोट,…

बंगाल में गठबंधन को लेकर माथापच्ची शुरू, फैसला अब ममता-सोनिया के हाथों में….

Image result for ममता-सोनिया

पश्चिम बंगाल में अस्तित्व बचाने के लिए मशक्कत कर रही कांग्रेस आगामी विधानसभा चुनाव में गठबंधन को लेकर दोराहे पर खड़ी है। राज्य में 2021 में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए प्रदेश कांग्रेस के शीर्ष नेता जहां मार्क्सवादी कम्यूनिस्ट पार्टा (माकपा) के साथ गठबंधन के पक्षधर हैं, वहीं राहुल गांधी ने तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के साथ गठबंधन की कवायद शुरू कर दी है।

बताया गया है कि लोकसभा में टीएमसी के मुख्य सचेतक कल्याण बनर्जी और राहुल गांधी के बीच करीब आधे घंटे तक बैठक चली। टीएमसी ने साफ किया है कि पश्चिम बंगाल में उसका दुश्मन नंबर वन भाजपा है, जबकि दुश्मन नंबर टू माकपा है।

कांग्रेस के साथ गठबंधन में टीएमसी को कोई समस्या नहीं है। इसी तरह से राष्ट्रीय स्तर पर भी भाजपा के खिलाफ मुखर लड़ाई में हर मौके पर ममता बनर्जी कांग्रेस के साथ खड़ी रही हैं। इसे देखते हुए 2021 के विधानसभा चुनाव में भी राहुल गांधी ने गठबंधन की संभावनाएं तलाशने का संकेत दिए हैं ताकि राज्य में भाजपा के वर्चस्व को कम किया जा सके। ममता बनर्जी पहले ही बंगाल में भाजपा की बढ़त को रोकने के लिए माकपा और कांग्रेस को साथ आने का आह्वान कर चुकी हैं। ऐसे में 2021 में राजनीतिक जंग की सूरत क्या होगी इसको लेकर असमंजस की स्थिति बनी हुई है।

इस बारे में कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष सोमेन मित्रा ने मंगलवार को ‘हिन्दुस्थान समाचार’ से कहा कि उन्हें केंद्रीय नेतृत्व की बैठक की कोई जानकारी नहीं है। जब उनसे पूछा गया कि आप लोग प्रदेश में माकपा के साथ गठबंधन की कवायद में जुटे हैं। ऐसी में यदि केंद्रीय नेतृत्व ने टीएमसी के साथ गठबंधन का निर्णय किया तो? इस पर उन्होंने कहा कि शीर्ष नेतृत्व का निर्णय कांग्रेस में आखिरी निर्णय होता है। बावजूद इसके हर एक निर्णय को पार्टी इकाई से सलाह मशविरा के बाद ही लिया जाता है। टीएमसी या माकपा के साथ गठबंधन का फैसला प्रदेश इकाई को विश्वास में लेने के बाद ही किया जाएगा।

ममता-सोनिया के हाथों में गठबंधन का फैसला

कांग्रेस और टीएमसी की ओर से दावा किया गया है कि गठबंधन पर आखिरी फैसला दोनों ही पार्टियों के शीर्ष नेतृत्व लेंगे। वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव के समय राहुल गांधी कांग्रेस अध्यक्ष के पद पर थे। वे ममता बनर्जी के कांग्रेस में रहने के दौरान काफी जूनियर रहे हैं। इसलिए कई मौके पर ममता बनर्जी कांग्रेस के साथ खड़ी होने से हिचकिचाती रही हैं, क्योंकि इससे यह संदेश जाता कि राहुल गांधी की छत्रछाया में ममता अपनी राजनीति कर रही हैं। अब जब कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी बन गई हैं तब ममता बनर्जी को भी कांग्रेस के साथ मिलकर राजनीति करने में कोई समस्या नहीं होगी। ऐसे में 2021 में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए संभावित गठबंधन का अंतिम फैसला ममता बनर्जी और सोनिया गांधी ही लेंगी।

उल्लेखनीय है कि वर्ष 2009 के लोकसभा चुनाव के दौरान भी कांग्रेस-टीएमसी में गठबंधन हुआ था। दोनों पार्टियों ने 2011 का विधानसभा चुनाव भी साथ लड़ा था, लेकिन 2013 में कुछ मसलों को लेकर वह अलग हो गए थे।

टीएमसी के साथ गठबंधन का प्रदेश नेतृत्व करेगा विरोध

बताया गया है कि कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने पार्टी से कहा है कि उसे बंगाल में अपनी रणनीति को लेकर दोबारा सोचना चाहिए। पश्चिम बंगाल तीसरा सबसे ज्यादा सीटों वाला राज्य है। यह लोकसभा में 42 प्रतिनिधियों को भेजता है। राज्य में भाजपा को हराने के लिए कांग्रेस अकेले काफी नहीं है। ममता बनर्जी के दो करीबी नेताओं के अनुसार मुख्यमंत्री ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल और आनंद शर्मा के साथ बातचीत का बातचीत का रास्ता खुला रखा है।

सोनिया के साथ अपनी बैठक को लेकर कल्याण बनर्जी ने कहा कि मैंने उनसे कहा है कि कांग्रेस की तरह हम भी भाजपा को मुख्य दुश्मन मानते हैं, लेकिन गठबंधन को लेकर कांग्रेस के लोकसभा नेता अधीर रंजन चौधरी और प्रदेश अध्यक्ष सोमेन मित्रा सहित कई अन्य नेता टीएमसी के विरूद्ध हैं। प्रदेश कांग्रेस के हवाले से बताया गया है कि अगर पार्टी का शीर्ष नेतृत्व ममता बनर्जी के साथ गठबंधन पर कोई भी निर्णय करता है तो प्रदेश इकाई की ओर से उसका विरोध किया जाएगा।

Share this post

scroll to top