राजनीति

राहुल के दर्द का फौरन हुआ असर, कांग्रेस में 120 इस्तीफे और 280 की बर्खास्तगी

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के दर्द की दवा तो नहीं हुई, हालांकि इसका असर जरूर पूरी पार्टी पर नजर आया है. गुरुवार को खबर आई कि राहुल गांधी को इस बात की तकलीफ है कि पार्टी के किसी नेता ने लोकसभा चुनावों में मिली करारी हार की जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफा नहीं दिया. इसका नतीजा देखिए, शुक्रवार शाम होते होते पार्टी में इस्तीफों की बाढ़ ही आ गई.

आपको याद होगा कि लोकसभा चुनाव में हार के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने इस्तीफे की पेशकश की थी. इसके बाद कांग्रेस नेताओं के जरिए लगातार राहुल को मनाने की कोशिश हो रही है, लेकिन अब पार्टी पदाधिकारी भी राहुल के साथ इस्तीफा देने पर अड़ गए हैं. पता चला है कि कांग्रेस में एक पत्र पर हस्ताक्षर कर पार्टी नेताओं के जरिए इस्तीफा दिया जा रहा है.

दिल्ली और तेलंगाना प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्षों ने शुक्रवार को अपने पदों से इस्तीफा दे दिया. अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (एआईसीसी) के सचिव वीरेंद्र राठौर, राजेश धर्माणी, फॉरन सेल सेक्रटरी वीरेंद्र वशिष्ठ और अनिल चौधरी ने भी अपना इस्तीफा सौंप दिया. इस पत्र पर अभी तक कांग्रेस के 120 पदाधिकारी हस्ताक्षर कर चुके हैं. इसमें AICC सचिव, यूथ कांग्रेस, महिला कांग्रेस पदाधिकारी शामिल हैं. रिपोर्ट्स के मुताबिक इस पर आगे और नेता भी हस्ताक्षर कर सकते हैं. पत्र में कहा गया है कि हम सब राहुल गांधी के साथ सामूहिक इस्तीफा देंगे.

वहीं एक खबर ये भी है कि दिल्ली कांग्रेस ने बड़ा फैसला करते हुए ब्लॉक कांग्रेस भंग कर दी है. दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी की अध्यक्ष शीला दीक्षित ने 280 ब्लॉक प्रमुखों को हटा दिया है. पार्टी में यह बदलाव लोकसभा चुनाव में पार्टी की करारी हार के बाद आए उठाए जा रहे हैं. दिल्ली में यह बड़ा बदलाव दीक्षित द्वारा गठित एक कमेटी की रिपोर्ट के आधार पर लिया गया है.

Back to top button