योगी के लिए कयामत की रात, क्या होगा कल सुबह का फैसला?

यूपी के उपचुनाव के दौरान जुमलों के हमलों का घमासान मचा हुआ था. अब ये थम चुका है, बस अंजाम जानने का इंतजार है. गोरखपुर और फूलपुर की जनता ने किसे चुना ये आज की रात बीतने के बाद पता चलेगा इस रात और सुबह के बीच कुछ घंटों का फासला है. ये फासला मिटा नहीं कि 14 मार्च को नतीजा सबके सामने होगा. लेकिन आज की रात कुछ लोगों के लिए काफी लंबी हो रही है. इनको ये रात गुजरने का इंतजार है.

कयामत की रात

इसमें कोई शक नहीं कि अगर आज की रात किसी पर भारी है, आज की रात किसी को सबसे लंबी लगेगी, सबसे ज्यादा जिसे आज रात करवटें बदलनी पड़ेंगी तो वो हैं योगी आदित्यनाथ. हालांकि सट्टा बाजार तक यही कह रहा है कि योगी अपनी इस परीक्षा में पास हो जाएंगे. लेकिन योगी को मालूम है कि असली नतीजे तो 14 मार्च की सुबह लाएगी, जिसके लिए काटनी होगी आज की रात.

इसलिए ये रात इनके लिए कयामत की रात से कम नहीं. क्योंकि कल की सुबह बताएगी कि क्या योगी का नाम बीजेपी को जीत दिलाने के लिए काफी है, या फिर खत्म हो रही है हिंदुत्ववाद के साथ घुली विकास की वो कशिश जिसके सहारे बीजेपी इन चुनावों में उतरी. कल सुबह ही पता चलेगा कि योगी के मुकाबले एक हुए बुआ और बबुआ को जनता ने कितना पसंद या नापसंद किया. कल सुबह ही पता चलेगा कि अखिलेश-मायावती की जोड़ी योगी को टक्कर दे सके या नहीं. लेकिन कल सुबह के बीच है आज की कयामत वाली रात.

इन चुनावों में यूपी के मुख्यमंत्री की प्रतिष्ठा दांव पर है. खुद उनकी छोड़ी हुई उस गोरखपुर सीट के लोगों का फैसला आना है, जहां योगी हमेशा से लोगों के दिलों में बसते आए. अब योगी को इंतजार है कि किसी तरह 13 मार्च की रात गुजरेगी और 14 मार्च का सियासी सवेरा आएगा. लेकिन ये सवेरा किसको अंधेरे में फेंकेगा और किसे जीत का उजाला दिखाएगा, उसके लिए यूपी के सीएम को आज की इस एक रात की बेचैनी जाग-जाग कर सहनी पड़ेगी.