उत्तर प्रदेशराजनीति

हनुमानजी को “दलित” बताने वाले बयान पर योगी ने दी सफाई, कहा-बाल की खाल निकाल रहे हैं लोग

हनुमान जी को दलित बताए जाने पर CM योगी के खिलाफ भड़के इस समाज के लोग, बजरंगबली के मंदिर पर किया कब्जा

प्रयागराज :  हाल ही में राजस्थान  में एक चुनावी कार्क्रम को संबोधित करते हुए उत्तर प्रदेश  के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ   ने कहा था कि हनुमान जी दलित जाति के थे. इस पर काफी सियासत सुरु हो गयी है. इस पर सफाई देते हुए   सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि जिन्हें धर्म के मर्म की जानकारी नहीं है, वे लोग हर बात संकीर्णता के दायरे में देख रहे हैं। उन्होंने यह भी कहा कि लोग संकीर्णता के दायरे में लाकर बाल की खाल निकाल रहे हैं। प्रयागराज जिले में आयोजित श्रीकुंभाभिषेकम् महोत्सव में रविवार को यूपी के सीएम ने कहा कि सनातन परंपरा को नहीं जानने वाले लोग ही सवाल खड़े करते हैं।

सीएम योगी ने कहा, ‘किसी के काम पर उंगली उठाना आसान होता है। दूसरों पर उंगली उठाने के बजाए यदि हर हर कोई अपनी जिम्मेदारी निभाए तो धरती दिव्य लोक में बदल जाए।’ अपने संबोधन में सीएम योगी ने कहा, ‘यह अत्यंत प्रसन्नता का क्षण है जब कुंभाभिषेकम् महोत्सव का आयोजन हुआ है, कांची कामकोटि मठ आदि शंकराचार्य परंपरा का प्राचीन मठ है।’ उन्होंने कहा, ‘देश और दुनिया में सनातन परंपरा का प्रचार प्रसार करने में शंकराचार्य स्वामी विजयेंद्र सरस्वती लगे हुए हैं।’

‘सनातन परंपरा को न जानने वाले करते हैं सवाल’
कुंभाभिषेकम् महोत्सव के दौरान मुख्यमंत्री योगी ने कहा, ‘कुंभ भारत की सनातन परंपरा मानव कल्याण का सबसे बड़ा सांस्कृतिक और आध्यात्मिक आयोजन है।’ उन्होंने कहा कि सनातन परंपरा पूरे विश्व के कल्याण की कामना करती है। यही नहीं, योगी आदित्यनाथ ने कहा कि जो लोग सनातन धर्म को नहीं जानते हैं, वही लोग सवाल खड़े करते हैं।

प्रयाग का कुंभ देश और दुनिया के लिए आकर्षण का केंद्र’
मुख्यमंत्री ने यह भी कहा, ‘कुंभ महान परंपरा का प्रतिनिधित्व करता है। देश में चार स्थानों पर कुंभ का पवित्र आयोजन होता है और प्रयाग का कुंभ देश एवं दुनिया के लिए आकर्षण का केंद्र बनता है। कुंभ दिव्य शक्तियों को अर्जित करने का सुअवसर है।’ कार्यक्रम के दौरान यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने प्रयागराज के हर नागरिक से अतिथियों के स्वागत की अपील भी की।

Back to top button