Breaking News
Loading...
Home / उत्तर प्रदेश / बुलंदशहर: सामने आया पुलिस वालो का सच, FIR रिपोर्ट ने खोली पोल….

बुलंदशहर: सामने आया पुलिस वालो का सच, FIR रिपोर्ट ने खोली पोल….

Loading...

Cop killed in Bulandshahr mob violence was shot in the head

बुलंदशहर में गोकशी के बाद हुई हिंसा में इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह और एक युवक सुमित की हत्या के मामले में  दर्ज कराई गई एफआईआर ही पुलिस की पोल खोल रही है.। जिससे पूरे पुलिस महकमे में हडकंप मचा हुआ है. बताते चले  फआईआर से साफ है कि उपद्रव के दौरान घिरे पुलिसकर्मियों के पास एके-47 जैसे अत्याधुनिक असलहे और उन्हें चलाने में प्रशिक्षित 18 से अधिक युवा पुलिसकर्मी भी थे। लेकिन उनमें से कोई भी फायरिंग का साहस नहीं कर सका। सिर्फ एक होमगार्ड के ही हवाई फायर किए जाने का उल्लेख है।

ये है पूरा मामला

स्याना में सोमवार को हुए बवाल के दौरान हथियारों से लैस पुलिस लिखा-पढ़ी में गोली तक चलाने का उल्लेख नहीं कर पाई। उपनिरीक्षक सुभाष चंद्र की ओर से दर्ज कराई गई एफआईआर में उल्लेख किया गया है कि वह इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह के साथ घटनास्थल पर महाव गांव पहुंचे थे। उनके साथ एचसीपी, चार सिपाही, तीन होमगार्ड व एक हेड स्तर का चालक यानी कुल 12 पुलिसकर्मी थे। चिंगरावठी पुलिस चौकी का फोर्स पहले से मौके पर होगा। एफआईआर में सीओ स्याना और एसडीएम स्याना के मौके पर होने का उल्लेख है। सीओ के हमराह दो तीन पुलिसकर्मी भी मौके पर रहे होंगे, जिनमें एक के पास आटोमेटिक हथियार होगा।

Loading...
Copy

एसडीएम का सुरक्षाकर्मी भी मौके पर था। भीड़ द्वारा जमकर पथराव करने, चौकी पर सरकारी वाहनों में आगजनी करने, चौकी के कमरे में जान बचाने को घुसे सीओ स्याना को जलाने की नीयत से आग लगाने, इंस्पेक्टर सुबोध कुमार को गोली लगने आदि का उल्लेख तो किया गया है लेकिन एके-47, पिस्टल लिए पुलिसकर्मियों द्वारा एक भी गोली चलाने का उल्लेख नहीं किया गया है।

इसके बाद मौके पर सीओ के बुलावे पर शिकारपुर सीओ, औरंगाबाद, बीबीनगर, नरसैना, खानपुर और मुख्यालय से स्वाट टीम के पहुंचने का उल्लेख है। इनके पहुंचने के बाद ही दरवाजा तोड़कर सीओ स्याना को चौकी से निकालने और घायल हुए इंस्पेक्टर सुबोध कुमार को लखावटी सीएचसी पर पहुंचाने का उल्लेख किया गया है। इंस्पेक्टर के गोली लगने और सीओ को चौकी के कमरे होने पर भी चौकी में आग लगाने के बाद भी पुलिसकर्मियों द्वारा आत्मरक्षार्थ फायरिंग नहीं करने से पुलिस की अक्षमता सामने आई है।

बुलन्दशहर में गोकशी से मुख्यमंत्री नाराज,घटना को बताया बड़ी साजिश

बुलन्दशहर की घटना को बड़ी साजिश का हिस्सा बताकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विशेष जांच दल ..एसआइट.. की रिपोर्ट आते ही किसी बड़ी कार्रवाई के संकेत दे दिये हैं।
योगी ने अधिकारियों की बैठक में कहा कि बुलन्दशहर की घटना किसी बड़े साजिश की ओर संकेत करती है। मुख्यमंत्री ने मारे गए युवक सुमित के परिजनों को 10 लाख रुपए की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की। उन्होंने गोकशी के आरोपियों के विरूद्ध सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए ।
बुलन्दशहर की घटना की एसआइटी की रिपोर्ट बुद्धवार को आने की सम्म्भावना है,माना जा रहा है कि रिपोर्ट आने पर मुख्यमंत्री बडी कार्रवाई कर सकते हैंँ।

अधिकारियों के साथ कानून व्यवस्था पर कल मध्यरात्रि के बाद त​क चली बैठक में उन्होंने कहा कि उनकी सरकार बनने के बाद अवैध बूचड़खानों को बंद कराने के आदेश दिये गये थे तो बुलन्दश​हर में कैसे गोकशी हो गयी। मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक को इस पर सख्ती बरतने के आदेश दिये। ऐसा अभियान चलाया जाए, जिससे माहौल खराब करने वाले बेनकाब हो।

मुख्यमंत्री ने कहा कि बुलन्दशहर की घटना में संलिप्त सभी आरोपियों की जल्द गिरफ्तारी के निर्देश दिए। इस मौके पर मुख्य सचिव अनूप चंद्र पांडेय, अपर मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी, प्रमुख सचिव गृह अरविंद कुमार, पुलिस महानिदेशक ओम प्रकाश सिंह, अपर पुलिस महानिदेशक कानून व्यवस्था आनंद कुमार और पुलिस महानिदेशक इंटेलीजेंस भवेश कुमार भी मौजूद थे।

उधर, पुलिस के अनुसार मामले में 27 लोगों को नामजद किया गया है। इन पर 17 धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है। गोकशी मामले में शिकायतकर्ता योगेश राज हिंसा को मुख्य आरोपी बताया जा रहा है। वह फरार है। 50-60 अज्ञात लोगों के खिलाफ भी मामला दर्ज किया गया है।

Loading...

Powered by themekiller.com anime4online.com animextoon.com apk4phone.com tengag.com moviekillers.com