संघ के करीबी बीजेपी सांसद बोले- पाकिस्तान नहीं है हमारा दुश्मन नंबर 1

0
45

आरएसएस चिंतक और भाजपा के राज्यसभा सांसद राकेश सिन्हा के अनुसार चीन भारत का दुश्मन नंबर वन है. सिन्हा ने जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटाए जाने पर चीन की ओर से आई प्रतिक्रिया को खारिज करते हुए यह बात कही. सिन्हा ने बीबीसी हिंदी रेडियो से हुई बातचीत के दौरान कहा कि भारत अपने आंतरिक मामले में अमेरिका, रूस, पाकिस्तान या चीन किसी को भी हस्तक्षेप करने की अनुमति नहीं दे सकता.

धारा 370 के मुद्दे पर चीन के बयान पर सिन्हा ने कहा कि चीन एक विस्तारवादी देश है, जो कभी भारत का अच्छा मित्र नहीं बन सकता. चीन कुछ साल पहले तक कश्मीरी लोगों को स्टेपल वीजा देता था. वह भारत के अरुणाचल प्रदेश पर दावा करता है, वह तो सिक्किम पर भी दावा करता है. यदि चीन के विस्तारवाद को हम मानेंगे तो भारत के कई हिस्से उसे सौंप देने पड़ेंगे.

सिन्हा का कहना है कि चीन की पाकिस्तान से भी कोई दोस्ती नहीं है. चीन से भारत के भी सम्बंध हैं, उसके साथ आर्थिक सम्बंध, राजनीतिक सम्बंध हैं, परंतु हम अपनी तरफ से पूरी तरह स्पष्ट हैं, चीन विस्तारवादी है और वह कभी भारत का अच्छा दोस्त नहीं हो सकता. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान इस मुद्दे पर पूरी दुनिया के सामने अकेला पड़ गया है. धारा 370 भारत का अंदरूनी मामला था. कूटनीतिक दृष्टि से भारत आज सबसे अच्छी स्थिति में है, जबकि पाकिस्तान अलग-थलग है. कोई भी इस्लामिक देश भी पाकिस्तान के साथ नहीं खड़ा है. यही भारत की सबसे बड़ी सफलता है.

सिन्हा के मुताबिक अगर आप यह समझते हैं कि पाकिस्तान भारत का सबसे बड़ा दुश्मन मुल्क है, तो आप गलत हैं. दरअसल पाकिस्तान तो भारत के सामने किसी भी मामले में कहीं ठहरता ही नहीं है. वैसे भी भारत ने कभी पाकिस्तान को दुश्मन नहीं समझा. भारत ने तो हमेशा ही यह कोशिश की कि भारत और पाकिस्तान साझा रूप से आगे बढ़ें तो दोनों देश मिलकर दक्षिण एशिया में अपना दबदबा बना सकते हैं, परंतु यह तो पाकिस्तान ही है जो भारत पर भरोसा नहीं करता और उसे अपना दुश्मन समझता है. वास्तव में भारत का दुश्मन नंबर वन भी भारत का पड़ोसी ही है और यह ड्रेगन यानी चीन है, जिसकी विस्तार वादी नीति से उसके सभी पड़ोसी देश परेशान हैं.